Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनी: बढ़ती जिम्मेदारियों के साथ बढ़ाएं कवर

प्रकाशित Wed, 19, 2013 पर 13:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी में आज हम बात करेंगे इंश्योरेंस की और साथ ही जानेंगे आपके के सवालों के जवाब अपना पैसा डॉटकॉम के हर्ष रूंगटा से।


सवाल : मेरी उम्र 39 साल है और मेरी सालाना आय 5,25,000 रुपये है। मेरे पास भारती अक्सा का यूलिप प्लान है जिसका सम अश्योर्ड 3.6 लाख रुपये है और सालाना प्रीमियम 18,000 रुपये है। अब तक मैंने 6 प्रीमियम भरे हैं। इस यूलिप प्लान का कवर बेहद कम हैं। इसलिए मैं एक टर्म प्लान भी लेना चाहता हूं। अगर भारती अक्सा से ही टर्म प्लान लेना हो तो प्रीमियम कितना पड़ेगा?


हर्ष रूंगटा : आपको 20-21 साल का टर्म कवर प्लान लेना चाहिए। आप अपने सालाना आय के 12 गुने के बराबर टर्म कवर ले सकते हैं। आपको ऑनलाइन टर्म प्लान लेना काफी फायदेमंद होगा। लेकिन आपको ध्यान रखना चाहिए कि इंश्योरेंस और निवेश को आपस में नहीं मिलाना चाहिए और इंश्योरेंस लेते वक्त कोई जानकारी नहीं छुपानी चाहिए।


आप बेंचमार्क से यूलिप के प्रदर्शन की तुलना करके देखें। यूलिप में बहुत से चार्ज होते है जिनकी वजह से रिटर्न घटता है। 60 लाख के टर्म कवर के लिए आपको भारती अक्सा में सालाना 7,011 रुपये और अविवा आई लाइफ में 7,154 रुपये का प्रीमियम भरना होगा।


सवाल : मैं अपने परिवार के लिए इंश्योरेंस लेना चाहता हूं। बेटी 6 साल की और बेटा 3 साल का है। बेटी और बेटे के लिए एलआईसी कोमल जीवन और जीवन सरल लेने की सोच रहा हूं। साथ ही अपने और पत्नी के लिए जीवन आनंद पॉलिसी लेना चाहता हूं। क्या ये ठीक रहेगा?


हर्ष रूंगटा : जिस पर काफी जिम्मेदारी हो लाइफ इंश्योरेंस उसी को लेना चाहिए। बच्चों के लिए अभी इंश्योरेंस लेने की जरूरत नहीं हैं। आप इंश्योरेंस और निवेश को आपस में न मिलाएं। एलआईसी जीवन आनंद और जीवन सरल ये दोनों ट्रेडिशनल प्लान हैं और इससे सालाना 5-6 फीसदी से ज्यादा रिटर्न नहीं मिलेगा। बच्चों की सुरक्षा के लिए आप अपने नाम पर सालाना आय के 12 गुने के बराबर टर्म कवर लें।


साथ ही आप इक्विटी म्यूचुअल फंड में फ्रैंकलिन इंडिया ब्लूचिप, आईसीआईसीआई प्रू फोकस्ड ब्लूचिप जैसे फंड्स में एसआईपी के जरिए पैसा लगा सकते हैं और कुछ पैसे पीपीएफ में भी डाल सकते हैं। आपको इक्विटी में 90 फीसदी और डेट में 10 फीसदी निवेश की स्ट्रैटेजी बनानी चाहिए। अगर आप बिल्कुल रिस्क नहीं लेना चाहते तो पूरा पैसा पीपीएफ में लगा सकते हैं। पीपीएफ में ट्रेडिशनल प्लान से बेहतर रिटर्न मिलेगा।


सवाल : मेरी उम्र 36  साल है। मैं 5 साल के लिए पेंशन प्लान में सालाना 80,000 रुपये लगा सकता हूं। क्या रिलायंस लाइफ का पेंशन प्लान लेना सही रहेगा?

हर्ष रूंगटा : ट्रेडिशनल प्लान में सालाना 5-6 फीसदी से ज्यादा रिटर्न नहीं मिलेगा। यूलिप के शुरुआती सालों में भारी चार्ज लगता है और फिर मोटे चार्ज की वजह से रिटर्न घटता है। पेंशन प्लान लेंगे तो आपको मैच्योरिटी पर उसी कंपनी से एन्युइटी लेनी होगी। मैच्योरिटी पर आप पेंशन प्लान में से सिर्फ एक तिहाई पैसे ही निकाल पाएंगे।


अगर आप रिलायंस स्मार्ट पेंशन प्लान में पैसा लगाना चाहते है तो कम से कम 10 साल तक प्रीमियम देना होगा। पेंशन प्लान की बजाय आप म्यूचुअल फंड या पीपीएफ में एसआईपी कर सकते हैं। लंबी अवधि का निवेश है इसलिए आप इक्विटी में 90 फीसदी और डेट में 10 फीसदी पैसा डालें।


सवाल : मेरे पास एलआईसी की चार पॉलिसी है। मैं हर साल मनी बैक पॉलिसी में 15399 रुपये, पेंशन प्लान में 10404 रुपये, जीवन छाया में 35500 रुपये और एनडाउमेंट प्लान में 3390 रुपये का प्रीमियम भरता हूं। मैं समझ गया हूं कि इंश्योरेंस को इन्वेस्टमेंट से अलग रखना चाहिए, तो अब मैं जानना चाहता हूं कि मौजूदा पॉलिसीज का क्या करूं?


हर्ष रूंगटा : आपकी सारी पॉलिसी ट्रेडिशनल प्लान हैं जिसमें आपको सालाना 5-6 फीसदी से ज्यादा रिटर्न मुश्किल है। सरेंडर वैल्यू, मैच्योरिटी वैल्यू और बाकी प्रीमियम के हिसाब से आप आईआरआर निकालें। अगर आईआरआर 8 फीसदी से कम है तो प्लान सरेंडर करने की सलाह होगी। 10 साल से ज्यादा के लिए निवेश करना है तो आप इक्विटी:डेट रेश्यो 90:10 रखें

सवाल : मेरे पास कंपनी की तरफ से 3 लाख रुपये का हेल्थ कवर है जिसमें पत्नी भी शामिल हैं। लेकिन अभी रिटायरमेंट के बाद के होने वाले मेडिकल खर्चों की चिंता हो रही है। मैं जानना चाहता हूं कि क्या इसके लिए अलग से हेल्थ कवर लेना चाहिए?


हर्ष रूंगटा : कंपनी का हेल्थ कवर रिटायरमेंट के बाद नहीं मिलेगा। इसलिए आपको अपने लिए अलग से हेल्थ इंश्योरेंस लेना ही चाहिए। नौकरी छोड़ने या स्विच करने पर भी कंपनी का हेल्थ कवर नहीं रहता है। लिहाजा अपने और पत्नी के लिए 3-3 लाख रुपये का इंडिविजुअल हेल्थ कवर लेंना ठीक होगा।

आप अपोलो म्युनिख ईजी हेल्थ स्टैंडर्ड या टाटा एआईजी मेडिप्राइम ले सकते हैं। साथ ही एक टॉप-अप प्लान भी लेने की सलाह होगी। बैंक ऑफ बड़ौदा भी नेशनल इंश्योरेंस कंपनी के साथ हेल्थ प्लान दे रहा है जो काफी सस्ता है।


वीडियो देखें