Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु से जानें टैक्स बचत के नियम

प्रकाशित Sat, 29, 2013 पर 13:00  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

हम सालभर पूरी कोशिश करते हैं कि ज्यादा से ज्यादा इनकम टैक्स बचाए और इसके लिए हम कई तरह के निवेश भी करते हैं, लेकिन कई बार उलझ जाते हैं। लेकिन क्या वाकई में टैक्स से जुड़े मामले इतने पेचीदा होते हैं। आइए जानते हैं आपके टैक्स से जुड़े इन्हीं उलझनों पर सुभाष लखोटिया की सलाह। 


सवाल : अगर साल के बीच में हमने नौकरी छोड़ दी और दूसरी जगह नौकरी की तो वहां टैक्स की देनदारी कैसे बनेगी? 


सुभाष लखोटिया : नौकरी साल में कभी भी बदली जा सकती है। लेकिन नौकरी बदलने पर नई कंपनी में पुरानी कंपनी के सैलरी का ब्यौरा जरूर दें। अगर पुरानी कंपनी ने टीडीएस काटा है और फॉर्म 16 दिया है तो इसे नई कंपनी में जमा कर दें। सारी जानकारी होने पर नई कंपनी भी तय हिसाब से टीडीएस काटेगी।  


सवाल : अंडरकंस्ट्रक्शन प्रॉपर्टी पत्नी के नाम पर खरीदी है। लोन भी पत्नी के नाम पर है और  मैं को-एप्लीकेंट हूं। क्या मुझे इस प्रॉपर्टी पर टैक्स छूट मिलेगा?   


सुभाष लखोटिया : आईटी कानून के मुताबिक टैक्स छूट उसी को मिलेगी जो प्रॉपर्टी का मालिक है। टैक्स छूट पाने के लिए ये जानना जरूरी है कि फंड का सोर्स क्या है। अगर फंड का सोर्स पत्नी के नाम है तो उसे ही टैक्स छूट मिलेगी। लेकिन अगर फंड का सोर्स आपके नाम है, तो धारा 64 के तहत छूट मिल सकती है।   


सवाल : बैंक से होम लोन लिया है। लेकिन अभी तक पजेशन नहीं मिला। क्या ऐसे में होम लोन पर टैक्स छूट मिलेगी?
       
सुभाष लखोटिया :  अगर होम लोन लेकर फ्लैट बुक किया है और पजेशन नहीं मिला है तो ब्याज पर टैक्स छूट नहीं मिलेगी। लेकिन आयकर की धारा 80सी के तहत आप प्रिसिंपल के भुगतान पर टैक्स छूट ले सकते हैं।  


सवाल : पिछले साल कंपनी को एज्यूकेशन लोन पर दिए गए 26,000 रुपये ब्याज की रसीद देना भूल गए, अब क्या करें?  


सुभाष लखोटिया : समय पर ब्याज की रसीद जमा न करने से कंपनी ज्यादा टैक्स काट सकती है। अभी आपके पास इनकम टैक्स रिटर्न जमा करने का विकल्प है। आप रिटर्न भरते वक्त एज्यूकेशन लोन पर दिए हुए ब्याज पर टैक्स छूट क्लेम कर सकते है और इस तरह आपको अपना रिफंड मिलेगा।


सवाल : फॉर्म 15जी जमा करने के बावजूद बैंक ने ब्याज पर टीडीएस काटा, क्या करें? 


सुभाष लखोटिया : बैंक ने अगर ब्याज पर टीडीएस काट लिया है तो आप इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करें और रिफंड क्लेम करें। आरबीआई की गाइडलाइन के मुताबिक फॉर्म 15जी का एकनॉलेजमेंट अकाउंटहोल्डर को देना होगा। आप आगे से बैंक से फॉर्म 15जी का एकनॉलेजमेंट जरूर लें।   


सवाल : टीडीएस 20 फीसदी से कम कटे इसके लिए क्या कदम उठाने की जरूरत है? 


सुभाष लखोटिया : आयकर धारा 206एए के तहत टीडीएस काटने के नियम लागू किए जाते हैं। जब आप अपना पॅन कार्ड नंबर नहीं देते तब 20 फीसदी टीडीएस कटता है। बैंक से मिले ब्याज पर 10 फीसदी टीडीएस कटता है। वहीं कॉन्ट्रैक्टर, सब-कॉंन्ट्रैक्टर के भुगतान पर 1-2 फीसदी टीडीएस कटता है और हाल ही में नया प्रावधान आया है कि अगर आप 50 लाख रुपये और उससे ज्यादा की प्रॉपर्टी खरीदते है तो 1 फीसदी टीडीएस कटता है। अगर आपने पॅन नंबर नहीं दिया तो 20 फीसदी टीडीएस कटेगा।    


सवाल : पत्नी को घर के किराए, एफडी के ब्याज और ट्यूशन से इनकम होती है, कौन-सा आईटी फॉर्म भरें?


सुभाष लखोटिया : आप आईटीआर4एस में रिटर्न ना भरें, बल्कि फॉर्म 2 में रिटर्न भरें। अगर ट्यूशन से हुई इनकम को बिजनेस या प्रोफेशन इनकम मान रहे हैं तो आप आईटीआर4 भरें।        

सवाल :
अगस्त 2012 में इंश्योरेंस कमिशन के रिफंड के लिए ऑनलाइन अर्जी दी थी लेकिन अभी तक रिफंड नहीं मिला है क्या करें?  


सुभाष लखोटिया : फॉर्म 26एएस के आधार पर इनकम टैक्स रिटर्न जमा किया है तो रिफंड जरूर मिलेगा। आईटी विभाग में काम ज्यादा होने की वजह से कभी-कभी रिफंड में देरी होती है। अगर फिर भी रिफंड नहीं मिलता है तो अपने असेसिंग ऑफिसर को ईमेल या पत्र लिखें।  


सवाल : पिता के फॉर्म 26एसएस में वित्त वर्ष 2013-14 में एक महीने का स्टेटस यू था, पता चला कि सीए की गलती थी, स्टेटस बदलने में कितना वक्त लगेगा? 


सुभाष लखोटिया : सीए के द्वारा कंपनी को पत्र लिखकर भूल सुधारने को कहें। फिलहाल आप फॉर्म 26एसएस की जानकारी के आधार पर रिटर्न भर सकते हैं। 


सवाल : कोई ऐसा तरीका है जिससे हम पत्नी को गिफ्ट भी दें और इनकम क्लब भी ना हों। साथ ही टैक्स भी बचें?


सुभाष लखोटिया : पत्नी को पति की तरफ से गिफ्ट में मिली रकम पर मिलने वाला ब्याज पति की इनकम में जोड़ा जाएगा। वहीं सास, ससुर से गिफ्ट मिलने पर ब्याज सास, ससुर की इनकम में जुड़ेगा। लेकिन अगर पत्नी गिफ्ट में मिली रकम को टैक्स फ्री बॉन्ड में या पीपीएफ में निवेश करें तो इनकम क्लब नहीं होगी।  


सवाल : मैं अपने ससुर को कुछ रकम गिफ्ट में देना चाहती हूं क्या गिफ्ट में मिली रकम पर टैक्स छूट मिलेगी?


सुभाष लखोटिया : गिफ्ट में मिलने वाली रकम पर टैक्स नहीं लगेगा। क्लबिंग प्रावधान भी लागू नहीं होगा। वरिष्ठ नागरिक को इनकम पर ज्यादा टैक्स छूट मिलता है। वित्त वर्ष में कभी वरिष्ट नागरिक बनने पर लागू टैक्स छूट का फायदा मिलेगा।


सवाल : पिछले साल रिटायर हुआ हूं, क्या आईटी रिटर्न में रिटायरमेंट बेनेफिट दिखाने की जरूरत होगी?


सुभाष लखोटिया : वैसे जरूरत नहीं है, लेकिन अगर आप आईटी रिटर्न में दिखाने चाहते हैं तो इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म 2 भर सकते हैं। फॉर्म 2 के कॉलम ई1 में आप रिटायरमेंट के फायदों की जानकारी दे सकते हैं।


सवाल : प्रॉपर्टी पर टैक्स की देनदारी कैसे बनती हैं?


सुभाष लखोटिया : फाइनेंस एक्ट 2013 के तहत जो अंतर वास्तविक मूल्य और सर्किल रेट में है वो इनकम माना जाएगा। आपने प्रॉपर्टी जिस साल खरीदी. उस साल का सर्किल रेट ही टैक्स देनदारी के लिए लागू होगा।


सवाल : बेटे के एनिमेशन कोर्स पर टैक्स छूट लेना चाहते हैं। कोर्स, हॉस्टेल फीस 1.8 लाख रुपये है, कितनी छूट मिलेगी?  


सुभाष लखोटिया : धारा 80सी के तहत आप पढ़ाई पर 1 लाख रुपये तक की लिमिट के अंदर ही छूट ले सकते हैं।


वीडियो देखें