Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

सही स्ट्रैटेजी मंदी में भी दिलाएगी बेहतर रिटर्न

प्रकाशित Thu, 18, 2013 पर 13:32  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मंदी के माहौल में एक निवेशक ये नहीं समझ पाता कि वो पैसे लगाए तो कहां, लेकिन बहुत सी ऐसी बाते हैं जिनका ख्याल रखकर आप अपनी गाढ़ी कमाई को सुरक्षित रख सकते हैं और आपकी बचत पर मिल सकता है बेहतर रिटर्न।

फाइनेंशियल एडवाइजर अर्णव पंड्या से जानेंगे ऐसी ही जरूरी स्ट्रैटेजी जिन्हें आप अपना कर बन सकते हैं स्मार्ट इंवेस्टर और मंदी में भी कर सकते हैं अपनी बचत। साथ ही फंड सुपरमार्ट डॉटकॉम के डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर नेल्सन डिसुजा से जानेंगे म्यूचुअल फंड से जुड़े सवालों के जवाब।    


सवाल : मंदी में भी हम अपनी बचत कैसे कर सकते हैं? बेहतर रिटर्न की सही स्ट्रैटेजी क्या है?


अर्नव पंड्या : अलाउंस को अपनी टेक होम सैलरी का हिस्सा समझना चाहिए और हर महीने सभी अलाउंस का क्लेम लेना चाहिए। वेतनभोगी कर्मचारियों को अपना अलाउंस लेने में देरी नहीं करनी चाहिए। बचत के लिए आपको सबसे पहले अपना बजट बनाना चाहिए और जिन खर्चों में आप कटौती कर सकते हैं उन सभी की लिस्ट बनाएं। आप एंटरटेनमेंट, बाहर खाना, शॉपिंग जैसे खर्चों में कटौती करके थोड़ी बचत कर सकते हैं।


कोई चीज डिस्काउंट पर मिल रही है केवल इसलिए शॉपिंग नहीं करनी चाहिए। हर व्यक्ति को डिस्काउंट के लालच में ज्यादा शॉपिंग से बचना चाहिए। डिस्काउंट पर सच में बचत हो रही हो तभी खरीदारी करनी चाहिए। अतिरिक्त डिस्काउंट के लिए ज्यादा खर्च न करें।


बिजली, टेलीफोन, क्रेडिट कार्ड जैसे बिल वक्त पर भरें। अगर आप ऐसा करते है तो पेनाल्टी से बच सकते हैं और कई कंपनियां वक्त पर बिल भरने पर डिस्काउंट भी देती है। अपने खर्चों को क्रेडिट कार्ड, डेबिट और कैश के बीच बांटे। क्रेडिट कार्ड की बिलिंग साइकिल याद रखें। बिलिंग साइकिल के हिसाब से खर्च करके आप भुगतान के लिए ज्यादा वक्त बचा सकते हैं। क्रेडिट कार्ड भुगतान की रकम हमेशा अलग और तैयार रखें।


अपने खाते से कुछ पैसे हमेशा अलग रखें ताकि वो खर्च न हों। अलग किए गए पैसों की जरूरत के मुताबिक सही जगह लगाएं। और खर्च से पहले बचत करें ताकि अनुशासन बना रहें।


सवाल : मैं हर महीने 15,000 रुपये बचा सकता हूं। दिसंबर 2020 में रिटायरमेंट है। साथ ही 50,000 रुपये का एकमुश्त निवेश भी करना है। कहां निवेश करें? कोटक का एनडाउमेंट प्लान कैसा है? एजेंट प्लान लेने के लिए बहुत दबाव डाल रहा है, लेकिन मुझे इसमें निवेश करने से डर लग रहा है।  
 
नेल्सन डिसूजा : आप म्यूचुअल फंड में एसआईपी के जरिए निवेश शुरु कर सकते हैं। आप अपने पोर्टफोलियो का 40 फीसदी निवेश लार्जकैप में आईसीआईसीआई प्रू फोकस्ड, डीएसपी बीआर टॉप 100 जैसे फंड्स में कर सकते हैं। वहीं 30 फीसदी निवेश मल्टीकैप में मिराए एसेट इंडिया अपॉर्च्यूनिटीज या यूटीआई अपॉर्च्युनिटीज फंड में कर सकते हैं। 20 फीसदी निवेश के लिए मिडकैप में आईडीएफसी स्टर्लिंग इक्विटी फंड और 10 फीसदी निवेश के लिए एचडीएफसी बैलेंस्ड अच्छा है। 


कोटक एनडाउमेंट एक ट्रेडिशनल प्लान है जिसमें रिटर्न बेहद कम मिलते हैं। आप इंश्योरेंस को इंवेस्टमेंट से अलग रखें और रिस्क कवर के लिए प्योर टर्म प्लान लें। आपको 50,000 रुपये की एकमुश्त रकम पाइन ब्रिज इंडिया में शॉर्ट टर्म फंड में डालनी चाहिए।


सवाल: मेरी उम्र 40 साल है और मासिक आमदनी 25,000 रुपये है। जून से एचडीएफसी टॉप 200 में हर महीने 1000 रुपये की एसआईपी शुरु की है। 10 साल बाद मुझे 30 लाख रुपये चाहिए। तो इसके लिए और कितना निवेश करना होगा? कहां पैसे लगाऊं?


नेल्सन डिसूजा : एचडीएफसी टॉप 200 में आप अपना निवेश जारी रखें। हर महीने 15,000 रुपये के निवेश से आप 10 साल में 30 लाख रुपये जुटा सकते हैं। रिस्क लेने की क्षमता के हिसाब  से आप निवेश शुरू करें। 35 फीसदी निवेश आप लार्जकैप में आईसीआईसीआई प्रू फोकस्ड फंड में कर सकते हैं। 25 फीसदी निवेश मल्टीकैप में मिराए एसेट इंडिया ऑपर्च्युनिटीज, 30 फीसदी मिडकैप में आईडीएफसी स्टर्लिंग इक्विटी और 10 फीसदी निवेश सेक्टर फंड में यानि रिलायंस बैंकिंग फंड में कर सकते हैं।


वीडियो देखें