Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु: कैसे भरें आईटीआर-1 सहज फॉर्म

प्रकाशित Thu, 18, 2013 पर 15:22  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

रिटर्न भरने के आखिरी तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है वैसे-वैसे उलझने सामने आ रही हैं। आपकी इन्ही उलझनों को सुलझाएंगे टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया और साथ ही उनसे जानेंगे आईटीआर1 - सहज फॉर्म की सारी जानकारीयां।     


सवाल : टैक्सपेयर्स को रिटर्न भरते वक्त कौन-से दस्तावेज तैयार रखने चाहिए?


सुभाष लखोटिया : रिटर्न भरते वक्त टैक्सपेयर्स को फॉर्म 16 के साथ सैलरी सर्टिफिकेट और बैंक और एफडी के ब्याज की जानकारी तैयार रखनी चाहिए। इसके अलावा किराए से हुई आय, अन्य आय, निवेश का ब्यौरा, एडवांस टैक्स, टीडीएस डिटेल्स तैयार रखनी होगी और सही रिटर्न फॉर्म होना चाहिए। 


सवाल : आईटीआर 1-सहज फॉर्म किसके लिए है? ये फॉर्म कौन-कौन भर सकता है?  


सुभाष लखोटिया : सैलरी या पेंशन से इनकम होने पर या एक प्रॉपर्टी से आय होने पर सहज-आईटीआर 1 फॉर्म भर सकते हैं। इसके अलावा अन्य स्त्रोत से आय होने पर (घुडदौड़ या फिर लॉटरी से हुई आय को छोड़कर) भी आईटीआर 1 फॉर्म भरा जा सकता है।


जिनके पास एक से ज्यादा प्रॉपर्टी है और जिनको घुडदौड़ या फिर लॉटरी से पैसा मिला है वैसे करदाता आईटीआर 1 फॉर्म को नहीं भर सकते हैं। इसके ऐसे करदाता जिनकी कैपिटल गेन्स और खेती से 5,000 रुपये से ज्यादा आय हुई है या बिजनेस, प्रोफेशन से कमाई हो रही वो भी इस फॉर्म का इस्तेमाल नहीं कर सकते। फॉर्म नंबर 1 एचयूएफ नहीं भर सकते, केवल इंडिविज्युल भर सकता है। भले 2 कंपनियों से सैलरी इनकम हो तभी करदाता आईटीआर 1 फॉर्म भर सकते हैं। 


सवाल : आईटीआर 1-सहज फॉर्म कैसे भरें?


सुभाष लखोटिया : करदाता पेपर फॉर्म में रिटर्न फाइल कर सकते हैं। इसके अलावा डिजिटल सिग्नेचर के साथ भी ई-रिटर्न भर सकते हैं। करदाता को टीडीएस के लिए सभी शेड्यूल भरने होंगे। फॉर्म नंबर 1 एचयूएफ नहीं भर सकते, केवल इंडिविज्युल भर सकता है। भले 2 कंपनियों से सैलरी इनकम हो तभी करदाता आईटीआर 1 फॉर्म भर सकते हैं। 


सावधानी से अपना पॅन नंबर और आईटी वॉर्ड लिखें। अगर आईटी वॉर्ड नंबर पता नहीं तो पीआरओसे पता करें। उसके बाद अपना पुरा मेलिंग एड्रेस सही लिखें। एनआरआई है तो उसका जिक्र जरूर दें। पहले सैलरी इनकम भरें। बी1 में सैलरी, पेंशन आय, बी2 में प्रॉपर्टी से इनकम  और बी3 में अन्य स्त्रोत से आय की पूरी जानकारी लिखें। इसके अलावा बी4ग्रॉस में टोटल इनकम लिखनी है।


80टीटीए में सेविंग बैंक ब्याज जो 10,000 रुपये तक छूट दिलाएगा। कुल मिलाकर सभी डिडक्शन की जानकारी कॉलम नंबर सी18 में आ जाएगी और सी19 में नेट टैक्सेबल इनकम लिखनी होगी और फिर डी में आपको कुल टैक्स की जानकारी देनी होगी। साथ ही इस फॉर्म पर आपको आईएफएससी कोड भी लिखना होगा। वेरिफिकेशन कॉलम में अपना नाम लिखकर दस्तखत जरूर करें। करदाताओं को आईटीआर-वी यानि वेरिफिकेशन फॉर्म में रिटर्न का सारांश भी होगा।             
        
वीडियो देखें