Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु: कैसे चुनें सही रिटर्न फॉर्म

प्रकाशित Mon, 29, 2013 पर 10:05  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई नजदीक आ रही है, ऐसे में ऐन वक्त पर रिटर्न फाइल करने में होने वाली जद्दोजेहद से बचने के लिए और रिटर्न फाइल करने की प्रकिया को आसान बनाने के लिए जानेंगे टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया के सुझाव।


सवाल : आईटीआर-1, आईटीआर-2 किसके लिए है? 


सुभाष लखोटिया : आईटीआर-1 एचयूएफ नहीं भर सकते, यह फॉर्म सिर्फ इंडिव्युजअल के लिए है। ऐसे इंडिव्युजअल जिनकी सैलरी, पेंशन और एक प्रॉपर्टी से इनकम है, वो आईटीआर-1 भर सकते हैं और जिनकी खेती से 5000 रुपये से ज्यादा आय है, वे करदाता आईटीआर-1 नहीं भर सकते। जिनकी इनकम 5 लाख रुपये से ज्यादा है, उन्हें डिजिटल सिग्नेचर के साथ ई-रिटर्न भरना होगा। अगर डिजिटल सिग्नेचर नहीं है तो आईटीआर-वी बंगलुरु भेजना होगा। 


आईटीआर-2 सभी इंडिविजुअल और एचयूएफ भर सकते हैं। सैलरी, हाउस प्रॉपर्टी, कैपिटल गेन्स और दूसरे स्त्रोतों से इनकम होने पर भी आईटीआर-2 में रिटर्न फाइल किया जा सकता है। लेकिन अगर बिजनेस या प्रोफेशन से इनकम है तो आईटीआर-2 नहीं भरना चाहिए।


सवाल : किराए के घर में रहते हैं। किराए पर छूट क्लेम कर रहे हैं। खुद के घर से किराया नहीं मिलता है, कौन-सा रिटर्न फॉर्म भरें?


सुभाष लखोटिया : आपकी एक्सेंप्टेड इनकम 5000 रुपये से ज्यादा है इसलिए आईटीआर-2 में रिटर्न फाइल करें।


सवाल : पिछले साल 10 लाख रुपये में खेती की जमीन बेची है, लॉन्ग टर्म या शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन नहीं हुआ है। कौ-सा रिटर्न फॉर्म भरें? 


सुभाष लखोटिया : आप आईटीआर-2 फॉर्म भर सकते हैं। कैपिटल गेंस की जानकारी शेड्यूल सीजी में दें।  


सवाल : वित्त वर्ष 2013-14 का रिटर्न आईटीआर-1 में जमा किया, हर महीने 800 रुपये ट्रांसपोर्ट अलाउंस मिल रहा है। जो पूरे साल में 5,000 रुपये से ज्यादा होता है। तो क्या आईटीआर-1 भरना गलत है। क्या रिवाइज्ड रिटर्न भरें? 


सुभाष लखोटिया : अगर सैलरी इनकम है तो आप आईटीआर-1 भर सकते हैं। लेकिन अगर 5000 रुपये से ज्यादा एक्जेंप्टेड इनकम है तो आईटीआर-1 का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। आपको आईटीआर-2 भरना चाहिए था। अभी आपको रिवाइज्ड रिटर्न फॉर्म भरना होगा।


आईटीआर-1 के इनकम फ्रॉम सैलरी कॉलम में कुल सैलरी लिखनी जरूरी होती है। धारा 80 सी की 1 लाख रुपये की छूट बिना घटाए पूरी सैलरी लिखनी चाहिए। 


वीडियो देखें