पेंशन बिल बदलेगा रिटायरमेंट के बाद की जिंदगी -
Moneycontrol » समाचार » रिटायरमेंट

पेंशन बिल बदलेगा रिटायरमेंट के बाद की जिंदगी

प्रकाशित Fri, 06, 2013 पर 09:29  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पेंशन बिल पास होने के साथ उम्मीद जगी है कि प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले और असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों का रिटायरमेंट भी बेहतर हो सकेगा। क्योंकि इससे ज्यादा लोग एनपीएस में पैसे लगाएंगे और बाजार में नए नए फीचर्स के साथ पेंशन प्रोडक्ट भी आएंगे।।


पेंशन बिल ने न्यू पेंशन स्कीम का ना केवल नाम बदला है बल्कि इसे लचीला भी बना दिया है। अब जरूरत पर पड़ने पर नए नेशनल पेंशन सिस्टम से पैसा निकाला जा सकेगा। पहले 60 साल से पहले पैसा निकालना बेहद मुश्किल था। इसके अलावा अब अगर आप चाहेंगे तो अपने पेंशन के लिए ऐसा फंड चुन सकेंगे जिसके रिटर्न की न्यूनतम गारंटी होगी। पहले ऐसी गारंटी नहीं होने की वजह से लोग इस पर कम भरोसा कर रहे थे। इतना ही नहीं बाजार में ज्यादा प्योर पेंशन प्लान मिलेंगे। और इस सबके साथ आपको मिलेगी नए रेगुलेटर की निगरानी


वैसे भले ही नेशनल पेंशन सिस्टम गैर सरकारी कर्मचारियों के बीच अपनी जगह नहीं बना पाई है। लेकिन बुढ़ापे के लिए पेंशन का इंतजाम करने वाली ये सबसे अच्छी स्कीम है। इसमें फंड मैनेजमेंट चार्ज बेहद कम करीब 0.25 फीसदी है। जबकि म्युचुअल फंड या इंश्योरेंस कंपनियां कम से कम 1.25 फीसदी लेती हैं। इसमें लोगों के पास निवेश के कई ऑप्शन है। इसमें फंड का 50 फीसदी आप इक्विटी में निवेश कर सकते हैं। जो निवेशक रिस्क न लेना चाहे वो अपना पूरा पैसा बांड में डाल सकता है। डायनमिक ऑप्शन में आपकी उम्र के साथ इक्विटी का हिस्सा घटता जाएगा। इस स्कीम में हिस्सा लेने के लिए आपको साल में कम से कम 6000 रुपये निवेश करने होंगे।


पेंशन बिल के पास होने से इस सेक्टर में 26 फीसदी विदेशी निवेश की मंजूरी भी मिल जाएगी। जानकारों के मुताबिक पीएफआरडीए को कानूनी अधिकार मिलने से पेंशन सेक्टर में जहां बेहतर इकोसिस्टम बनेगा वहीं निवेशकों में भरोसा भी बढ़ेगा


वीडियो देखें