Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु से जानें टैक्स बचाने के तरीके

प्रकाशित Sat, 14, 2013 पर 14:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया से जानिए किस तरह से बचाया जा सकता है टैक्स और कैसे सुलझाई जा सकती हैं टैक्स की उलझनें।


सवालः एक अंडर कंस्ट्रक्शन प्रॉपर्टी 60 लाख रुपये में खरीदी है। 1 जून 2013 को 12 लाख रुपये का भुगतान किया और बाकी बचे 48 लाख रुपये लोन के जरिए दिए जाने हैं। क्या इस 12 लाख रुपये की रकम पर टीडीएस देना होगा? क्या इसे एकमुश्त देना है या किस्तों में भी दे सकते हैं?


सुभाष लखोटिया: 1 जून 2013 से पहले दिए गए भुगतान पर टीडीएस काटने की जरूरत नहीं है। बाकी बचे 48 लाख रुपये की भुगतान पर टीडीएस काटना होगा जो एकमुश्त भी दिया जा सकता है और किस्तों में भी चुकाया जा सकता है। विक्रेता को भुगतान के पहले टीडीएस चुकाने में कोई दिक्कत नहीं है।


सवालः दुबई में 20 साल काम किया है और अब भारत वापस आ रहे हैं। काम के दौरान बचाए गए 4 करोड़ रुपये पास में हैं, इस रकम को कहां निवेश करें जिससे इस पर टैक्स ना लगे?


सुभाष लखोटिया: सरकार के टैक्स फ्री बॉन्ड में बड़ी मात्रा में निवेश करें। इसके अलावा रियल एस्टेट में और बैंक एफडी में निवेश करें। आप कुछ रकम म्यूचुअल फंड और शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं। आप अपनी रकम को 3-4 जगह अलग अलग ऐसेट क्लास में निवेश करें जिससे आपकी रकम पर अच्छा रिटर्न मिल सके।


सवालः मेरे पिताजी की मृत्यु इसी साल मई में हुई है। क्या उनका इंकम टैक्स रिटर्न मेरी मां फाइल कर सकती हैं?


सुभाष लखोटिया: आपकी मां आपके पिता का इंकम टैक्स रिटर्न फाइल कर सकती हैं। आपकी मां रिटर्न के दस्तावेजों पर साइन कर सकती हैं। पैन नंबर और एसेसी के नाम में पिताजी का ही नाम जाएगा लेकिन कानूनी प्रतिनिधी के रूप में माताजी हस्ताक्षर कर सकती हैं।


सवालः मार्च 2013 में एक अंडर कंस्ट्रक्शन प्रॉपर्टी खरीदी है जिसकी कीमत 1.17 करोड़ रुपये है। क्या इस पर टीडीएस देना होगा, बिल्डर 1 फीसदी टीडीएस काटने से मना कर रहा है, क्या करें?


सुभाष लखोटिया: धारा 194 आईए के मुताबिक 50 लाख रुपये से ऊपर की प्रॉपर्टी पर 1 फीसदी टीडीएस काटना जरूरी होता है। आप 1 जून 2013 के बाद जो रकम भुगतान कर रहे हैं केवल उसी पर टीडीएस काटना जरूरी है। मार्च 2013 तक जो भुगतान किया उसपर टीडीएस काटने की जरूरत नहीं है। 1 जून 2013 के बाद होने वाले हर भुगतान पर 1 फीसदी टीडीएस काटना जरूरी है।


सवालः सरकारी कॉलेज में काम करते हैं, धारा 80यू के तहत 1 लाख रुपये की टैक्स छूट मिलती है। पत्नी नेत्रहीन हैं और एक हाउसवाइफ हैं, क्या हमें अतिरिक्त टैक्स छूट मिल सकती है?


सुभाष लखोटिया: आप भी विकलांग हैं और आपकी पत्नी भी विकलांग है तो आपको धारा 80डीडी के तहत अतिरिक्त 1 लाख रुपये तक की टैक्स छूट मिलेगी। पत्नी अगर गंभीर रुप से विकलांग हैं तो 1 लाख रुपये तक की टैक्स छूट मिलेगी।


सवालः बैंक में काम करतें हैं और कंपनी के काम के सिलसिले में लंदन गए हुए हैं। लंदन में कंपनी रोज के खर्च के लिए भत्ता देती है। अगर इस पैसे को लंदन से भारत ट्रांसफर करते हैं तो क्या इस पैसे पर टैक्स देना होगा?


सुभाष लखोटिया: विदेश जाने पर मिलने वाले भत्ते पर कोई टैक्स नहीं लगता है लेकिन भत्ते की बचाई गई रकम आपकी इनकम मानी जाएगी इसलिए इस पर टैक्स लगेगा।


सवालः शेयर बाजार में एफएंडओ ट्रेडिंग करते हैं। इससे 4-5 लाख रुपये का मुनाफा होने पर टैक्स की देनदारी कैसे बनेगी?


सुभाष लखोटिया: एफएंडओ ट्रेडिंग से हुआ फायदा बिजनेस इंकम मानी जाएगी। भुगतान किया हुआ एसटीटी आपकी आय में से कट जाएगा। आप बिजनेस इंकम के लिए किए गए खर्च पर छूट का दावा कर सकते हैं।


वीडियो देखें