Moneycontrol » समाचार » बीमा

जीवन की बुनियादी जरूरतों में शामिल इंश्योरेंस

प्रकाशित Sat, 28, 2013 पर 13:43  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जीवन की अनिश्चितता को देखते हुए इंश्योरेंस अब बुनियादी जरूरतों में शामिल होता जा रहा है। लाइफ इंश्योंरेंस के साथ हेल्थ इंश्योरेंस के लिए भी मांग बढ़ती जा रही है। इस मांग को देखते हुए कई सवाल भी सामने आ जाते हैं। रूंगटा सिक्योरिटीज के सीएफपी हर्षवर्धन रूंगटा और अपना पैसा डॉटकॉम के हर्ष रूंगटा ने इंश्योरेंस से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए जो आपके भी बहुत काम आ सकते हैं।


सवालः अपने और पत्नी के लिए हेल्थ इंश्योरेंस चाहिए। मेरी उम्र 31 साल, पत्नी की उम्र 28 साल है। रेलिगेयर केयर प्लान कैसा है? क्या इसमें निवेश किया जा सकता है?


हर्षवर्धन रूंगटा: रेलिगेयर केयर हेल्थ प्लान अच्छा प्लान है। रेलिगेयर केयर में क्लेम के बाद पॉलिसी रीचार्ज हो जाती है। 50-60 लाख रुपये की पॉलिसी लेने पर विदेश में हुए इलाज का खर्च भी कवर हो जाता है। साथ ही अंग दान करने वाले का खर्च भी कवर होता है। गंभीर बीमारी होने पर कंपनी सेकंड ओपीनियन का खर्च उठाती है। इसमें रूम रेंट की सीमा 1 फीसदी है। अपोलो म्युनिख, टाटा एआईजी की पॉलिसी में रूम रेंट की सीमा नहीं है।


सवालः माता-पिता का हेल्थ इंश्योरेंस कराना है। पिता की उम्र 66 साल है और पूरी तरह स्वस्थ हैं, उनके लिए रेलिगेयर केयर और मैक्स बूपा में से कौन सी पॉलिसी बेहतर रहेगी और सम इंश्योर्ड कितना होना चाहिए? मां की उम्र 57 साल है और उनको डायबिटीज और ब्लड प्रेशर की दिक्कत है। उनके लिए कितने का हेल्थ कवर लूं?


हर्षवर्धन रूंगटाः रेलिगेयर केयर और मैक्स बूपा के प्लान में 20 फीसदी को-पेमेंट होगा क्योंकि आपके पिता की उम्र 61 साल से अधिक है। रेलिगेयर केयर में क्लेम के बाद भी सम इंश्योर्ड नहीं घटता है और रेलिगेयर केयर में सेकंड ओपीनियन का खर्च कंपनी देती है। आप अपने माता-पिता के लिए रेलिगेयर केयर का हेल्थ प्लान लें।


सवालः मैं 1 करोड़ रुपये का टर्म प्लान लेना चाहता हूं। कुछ पॉलिसी में क्रिटिकल इलनेस और एक्सीडेंट बेनेफिट भी मिलता है, इसके बारे में बताएं?


हर्षवर्धन रूंगटाः आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल, एचडीएफसी लाइफ और एसबीआई की लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी अच्छी हैं।  सभी पॉलिसी में 92 फीसदी का क्लेम सेलटमेंट रिकॉर्ड है। आप क्रिटिकल इलनेस और एक्सिडेंट बेनेफिट के लिए अलग से पॉलिसी लें। एक्सिडेंट पॉलिसी के लिए जनरल इंश्योरेंस कंपनियां अच्छी पॉलिसी देती हैं।


सवालः पिछले साल एगॉन रेलिगेयर का टर्म प्लान खरीदा था जिसके बारे में पता चला है कि इसका क्लेम सैटलमेंट रेश्यो कम है, अब मुझे क्या करना चाहिए?


हर्षवर्धन रूंगटाः एगोल रेलिगियर का क्लेम सैटलमेंट रेश्यो 66 फीसदी है। आप अपना प्रपोजल फॉर्म चेक करें और कोई जानकारी छूट गई हो तो कंपनी को सूचित करें। अगर आपकी दी गई जानकारी सही और पूरी है तो सेटलमेंट में दिक्कत नहीं होगी। कंपनी को भेजी गई सूचना पर एक्नॉलेजमेंट जरूर ले लें। कोई विवाद होने पर इंश्योरेंस ऑम्बूड्समैन में शिकायत कर सकते हैं।


सवालः 30 लाख का होम इंश्योरेंस लेना चाहती हूं। क्या होम इंश्योरेंस, होम लोन की अवधि पूरी होने तक रखना चाहिए? इसके अलावा बेटे और बेटी के लिए लाइफ इंश्योरेंस भी लेना हैं, बेटे की उम्र 23 साल और बेटी की 19 साल है। इंश्योरेंस किस कंपनी से लेने की सलाह होगी?


हर्ष रूंगटाः आप होम लोन के बराबर का टर्म कवर लें और लाइफ कवर के लिए अलग से टर्म इंश्योरेंस लें। टर्म कवर ऑनलाइन ही लें तो बेहतर है क्योंकि ये सस्ता पड़ेगा। इंश्योरेंस के नए नियमों से टर्म कवर पर कोई असर नहीं होगा।


सवालः 3-5 लाख रुपये का हेल्थ कवर चाहिए जो ऑनलाइन खरीदना चाहती हूं। किस कंपनी से लेना ठीक होगा और किसका क्लेम सेटलमेंट अच्छा है? क्या क्रिटिकल इलनेस राइडर का ऑप्शन चुनना फायदेमंद होगा?


हर्ष रूंगटाः ऑनलाइन और ऑफलाइन हेल्थ इंश्योरेंस में कोई फर्क नहीं है। आप अपने लिए 3 लाख का इंडिविजुअल हेल्थ कवर लें। इसके लिए अपोलो म्युनिख ईजी हेल्थ स्टैंडर्ड प्लान ले सकती हैं। 3 लाख रुपये के हेल्थ कवर का सालाना प्रीमियम करीब 4000 रुपये होगा। 3 लाख रुपये के ऊपर 2 लाख रुपये का एक टॉप अप भी लें। आपको क्रिटिकल इलनेस राइडर लेने की सलाह दी जा रही है। क्रिटिकल इलनेस कवर के लिए अवीवा हेल्थ सिक्योर ले सकती हैं।


वीडियो देखें