Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु: जानें टैक्स बचत के गुरुमंत्र

प्रकाशित Sat, 05, 2013 पर 15:18  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स बचाने और इनकम टैक्स से जुड़ी हर परेशानी का हल बताएंगे टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया।


सवाल : क्या मैं ऐसा कोई लोन ले सकती हूं जिस पर मुझे कोई ब्याज नहीं देना पड़े और अगर मैं ऐसा कोई लोन लेती हूं तो इस पर टैक्स की देनदारी क्या होगी?


सुभाष लखोटिया : आईटी कानून में इंटरेस्ट फ्री लोन पर कोई विशेष प्रावधान नहीं है। सामान्य तौर पर आप किसी को भी लोन दे सकते हैं। लोन पर इंटरेस्ट लेने या नहीं लेने का फैसला लोन देने वाले का होता है। लेकिन करदाता को पत्नी और बहू को इंटरेस्ट फ्री लोन देने से बचना चाहिए। धारा 64 के तहत पत्नी या बहू को इंटरेस्ट फ्री लोन देने पर क्लबिंग के प्रावधान लागू होंगे। पत्नी या बहू को दिए लोन से हुई इनकम देने वाले की आय में जुड़ेगी। इसलिए पत्नी और बहू को छोड़कर किसी को भी इंटरेस्ट फ्री लोन दे सकते हैं।


सवाल : क्या मुझे अपने पोते की स्कूल फीस पर टैक्स छूट मिल सकती है? 


सुभाष लखोटिया : केवल अपने बच्चों की पढ़ाई के लिए आयकर की धारा 80सी के तहत टैक्स छूट मिलती है। आयकर कानून में पोते के स्कूल फीस पर टैक्स छूट के प्रावधान नहीं है।  


सवाल : पिता 2010 में महाराष्ट्र बिजली बोर्ड से रिटायर हुए। उन्होंने रिटायरमेंट से मिली रकम का निवेश म्यूचुअल फंड में किया। कुछ दिन पहले आईटी विभाग से इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरने का पत्र मिला, क्या 2010 से लेकर अब तक का रिटर्न भरना होगा?


सुभाष लखोटिया : सिर्फ म्युचुअल फंड में निवेश करने की वजह से आईटी रिटर्न भरने की जरूरत नहीं है। अगर पिता की इनकम छूट सीमा से ज्यादा तो उन्हें रिटर्न भरना चाहिए। अगर रिटर्न फाइल करने के लिए आईटी विभाग से पत्र मिला है तो रिटर्न जरूर भरें। 


सवाल : मैंने और मेरी पत्नी ने ज्वाइंट होम लोन लिया है और यह प्रॉपर्टी पत्नी के नाम से लॉटरी सिस्टम से एलॉटमेंट में निकली थी। क्या टैक्स का लाभ हम अलग-अलग ले सकते हैं?


सुभाष लखोटिया : प्रॉपर्टी पत्नी के नाम पर है तो होम लोन पर टैक्स छूट सिर्फ पत्नी को ही मिलेगी। आप दोनों को अलग-अलग टैक्स छूट नहीं मिलेगा। 


सवाल : बिजनेसमैन के लिए सितंबर का महीना निवेश के लिए क्यों जरूरी माना जाता है? 


सुभाष लखोटिया : 30 सितंबर तक बिजनेस के लिए निवेश करने पर पूरे साल के डिप्रिसिएशन का फायदा मिलेगा। 30 सितंबर के बाद फर्निचर, मशीनरी, बिल्डिंग वगैरह खरीदने पर सिर्फ 6 महीने के डिप्रिसिएशन का फायदा मिलता है।


सवाल : बैंक को एजुकेशन लोन की ईएमआई के तौर पर सालाना 55,000 रुपये देते हैं, पिछले साल लोन अकाउंट बंद करने के लिए 1.5 लाख रुपये चुकाए लेकिन छूट सिर्फ 55,000 रुपये पर मिली, क्या बाकी रकम पर इस साल टैक्स छूट मिल सकती है?


सुभाष लखोटिया : एजुकेशन लोन पर दिए गए ब्याज पर ही टैक्स छूट मिलती है। आप पिछले साल दिए गए लोन की रकम पर इस साल छूट नहीं ले सकते हैं। पिछले साल का रिवाइज्ड रिटर्न भरकर सही डिडक्शन क्लेम कर सकते हैं।


सवाल : एचयूएफ अगर कैश पेमेंट करके खेती की जमीन खरीदता है तो उसकी रजिस्ट्री वो परिवार के किसी सदस्य के नाम कर सकता है और टैक्स की देनदारी कैसे बनती है?


सुभाष लखोटिया : एचयूएफ के पैसे से एचयूएफ सदस्य के नाम पर प्रॉपर्टी खरीद सकते हैं। अगर सदस्य को ज्यादा पैसे मिल रहे हैं तो धारा 56 के तहत टैक्स लगेगा। 50,000 रुपये तक की रकम पर ही टैक्स छूट मिलेगी। 


सवाल : मां को खुद की पेंशन के साथ दिवंगत पिता की पेंशन भी मिलती है, क्या दोनों पेंशन की रकम पर टैक्स लगेगा या सिर्फ पिता की पेंशन पर टैक्स देना होगा?


सुभाष लखोटिया : दिवंगत पिता की पेंशन मां की इनकम में जुडे़गी और उस पर टैक्स लगेगा। पारिवारिक पेंशन पर अधिकतम 15,000 रुपये तक की टैक्स छूट मिलती है।


वीडियो देखें