इंटरनेट कनेक्शन की धीमी स्पीड से मुश्किल - Moneycontrol
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

इंटरनेट कनेक्शन की धीमी स्पीड से मुश्किल

प्रकाशित Thu, अक्तूबर 17, 2013 पर 18:45  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एक तरफ सरकार देश में इंटरनेट को बढ़ावा देने के दावे कर रही है, दूसरी ओर मौजूदा सर्विस प्रोवाइडरों के खिलाफ इंटरनेट की धीमी स्पीड की शिकायतें बढ़ती जा रही हैं। टेलीकॉम विभाग ने 8 अगस्त को देशभर में ब्रॉडबैंड की न्यूनतम स्पीड बढ़ाकर 512 केबीपीएस कर दी है। लेकिन एयरटेल, बीएसएनएल और तिकोना समेत ज्यादातर कंपनियां अभी भी न्यूनतम स्पीड 256 केबीपीएस ही दे रही हैं। यही नहीं हाई स्पीड प्लान लेने के बावजूद ग्राहकों को मनचाही स्पीड नहीं मिल रही है।


दीपक प्रसाद के लिए ब्रॉडबैंड कनेक्शन उनकी लाइफलाइन है। वो सुन और बोल नहीं सकते। देश में दोस्तों और विदेश में रह रही बेटी और नातिन के संपर्क में रहने का उनके पास ये इकलौता जरिया है। ऐसे में धीमी इंटरनेट स्पीड और कनेक्शन बार-बार कटना उन्हें काफी परेशान करता है।


दीपक प्रसाद की तरह प्रखर सहाय भी इन्हीं मुश्किलों से घिरे हैं। वो कई सेलिब्रिटीज के लिए सोशल मीडिया मैनेजमेंट का काम करते हैं। लेकिन धीमे इंटरनेट कनेक्शन का बुरा असर उनके कामकाज पर पड़ता है।

गुड़गांव में एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करने वाले पंकज एयरटेल का ब्रॉडबैंड इस्तेमाल करते हैं। पंकज की कंपनी ने उन्हें घर से काम करने की भी सुविधा दी है लेकिन वो इसका फायदा नहीं उठा पा रहे। जबकि वो इसके लिए एयरटेल को कई फोन और 8 मेल भी कर चुके हैं।


ग्राहकों की एक बड़ी शिकायत है कि हाई स्पीड सब्सक्राइब करने के बावजूद उनकी स्पीड में सुधार नहीं दिखता, क्योंकि ज्यादातर इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर विज्ञापन में किए दावे पूरे नहीं कर पाते। इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आईएसपीएआई) का तर्क इस बारे में अलग ही है।


आज के हालात ये हैं कि इंटरनेट की स्पीड के मामले में भारत दुनिया भर में 114वीं पोजीशन पर है। क्वालिटी के स्टैंडर्ड पर खरा नहीं उतरने के लिए टेलीकॉम रेगुलेटर ट्राई ने एमटीएनएल, बीएसएनएल, तिकोना और सिफी समेत 6 इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स पर मार्च में करीब 3 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया। ट्राई का कहना है कि आगे सभी कंपनियां स्टैंडर्ड को मानें, इसके लिए और कदम उठाए जाएंगे।


लेकिन जब तक ट्राई से राहत नहीं मिलती परेशान कंज्यूमर इंडियन ब्रॉडबैंड फोरम जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर अपनी समस्याएं सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं।


हम आपको बता दें कि कनेक्शन स्पीड, एक्टिवेशन टाइम, रिपेयर टाइम, बिलिंग या किसी और दिक्कत की शिकायत आप सर्विस प्रोवाइडर या pgportal.gov.in पर कर सकते हैं। क्वालिटी के मापदंड पर खरा नहीं उतरने पर कंपनी पर हर बार 50,000 रुपये तक का जुर्माना लग सकता है।


अगर ब्रॉडबैंड कंपनी जिस स्पीड पर सर्विस देने का दावा करती है और आपको लगता है कि कंपनी उस स्पीड पर सर्विस नहीं दे रही है तो आप इसे भी जांच सकते हैं। आप www.speedtest.net जैसे इंडिपेंडेंट टेस्ट मीटर से स्पीड माप सकते हैं। www.speedtest.net पर जा कर begin test पर क्लिक करके डाउनलोड स्पीड पता लगा सकते हैं। साथ में ping test के जरिए जान सकते हैं कि किसी वेबसाइट से कनेक्शन के लिए कितना समय लग रहा है।


वीडियो देखें


इस बारे में अपनी राय दीजिए
पोस्ट करनेवाले: MMB Messengerपर: 17:30, नवम्बर 22, 2014

बाज़ार खबरें

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि सरकार क...

पोस्ट करनेवाले: MMB Messengerपर: 14:00, नवम्बर 22, 2014

बाज़ार खबरें

दिल्ली के ग्रेटर कैलाश वाले सुब्रत रॉय के घ...