Moneycontrol » समाचार » बीमा

माता-पिता के लिए कौन-सा हेल्थ प्लान बेहतर!

प्रकाशित Wed, 06, 2013 पर 11:02  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इंश्योरेंस व्यक्ति के जीवन का एक बेहद अहम हिस्सा है। जीवन की इस आपाधापी में हमारी सुरक्षा की गारंटी कौन लेता है। समस्याएं बताकर नहीं आती हैं और इन मुसीबतों से लड़ने की सबसे बड़ी ताकत कोई देता है तो वह है पैसा। लेकिन अर्थ के केंद्रीकरण के इस दौर में हर वक्त पैसा पास हो यह कह पाना बेहद कठिन है। ऐसे में इंश्योरेंस ही एक मात्र ऐसा माध्यम है जो विपरीत परिस्थितियों में हमारी सुरक्षा का गारंटी कार्ड साबित होता है। बशर्ते हम अपनी जरुरत के मुताबिक और सही इंश्योरेंस पॉलिसी का चुनाव करें।


ट्रांसेंड कंसल्टंसी के सीईओ कार्तिक झवेरी बता रहे हैं कौन सी इंश्योरेंस पॉलिसी लें, वहीं पॉलिसी लेते समय किन बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है।


सवाल: मैं अपने माता-पिता के लिए एक हेल्थ प्लान खरीदना चाहता हूं। पिता की उम्र 66 साल है, वहीं मां को कुछ साल पहले कैंसर हुआ था। वर्तमान में माता-पिता दोनों ब्लड प्रेशर (बीपी) की समस्या से ग्रस्त हैं। मैं दोनों के लिए करीब 4 लाख रुपये के कवर का हेल्थ प्लान खरीदने का विचार कर रहा हूं। क्या फ्लोटर प्लान लूं या फिर दोनों के लिए अलग-अलग प्लान खरीदना उचित होगा। साथ ही क्या माता-पिता को इस उम्र में हेल्थ प्लान मिलेगा, कहीं इसका प्रीमियम ज्यादा तो नहीं होगा?


कार्तिक झवेरी: आपने माता-पिता के लिए हेल्थ प्लान खरीदने में काफी देरी कर दी है। ऐसे में जल्द से जल्द प्लान लेने की योजना बनाएं। माता-पिता की उम्र ज्यादा है इसलिए प्लान मिलने में कुछ समस्याएं हो सकती हैं। लेकिन हेल्थ प्लान मिल जाएगा, हालांकि इसका प्रीमियम ज्यादा जरूर हो सकता है। इश्योरेंस कंपनी प्लान देने से प्लान आपके पैरेंट्स की मेडिकल जांच करवाएगी उसके बाद ही प्लान देने का निर्णय लेगी। वहीं माता-पिता की वर्तमान स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार की प्लान का प्रीमियम तय होगा। इसके अलावा अलग-अलग प्लान खरीदने की अपेक्षा फ्लोटर प्लान खरीदना बेहतर निर्णय साबित हो सकता है।


सवाल: मेरी उम्र 22 साल है और मासिक आय 12,000 रुपये है। मैं 1 करोड़ रुपये का टर्म प्लान खरीदना चाहता हूं। लेकिन क्या इंश्योरेंस कंपनी आमदनी के मुताबिक टर्म प्लान देती है। वहीं अलग-अलग कंपनियों के एक जैसे प्लान के प्रीमियम में अक्सर अंतर क्यों पाया जाता है। साथ ही ये बताएं क्या ऑन लाइन पॉलिसी खरीदना ज्यादा फायदेमंद होता है?


कार्तिक झवेरी: मात्र 22 साल की उम्र में टर्म प्लान खरीदने पर विचार करना एक काफी सराहनीय सोच है। हां इंश्योरेंस कंपनियां टर्म प्लान देने से पहले पॉलिसीधारक की आमदनी की जानकारी जरूर मांगती हैं और उसके मुताबिक टर्म प्लान जारी करती है। इसके पीछे उद्देश्य मात्र इतना होता है कि बीमाधारक द्वारा ली जा रही पॉलिसी लंबे समय तक चलती रहे और प्रीमियम की रकम संबंधित सम्सयाएं ना पैदा हों। वहीं ऑफलाइन की बजाय ऑन लाइन प्लान खरीदना ज्यादा फायदे का सौदा होता है। इसके अलावा प्रतिस्पर्धा के चलते इंश्योरेंस कंपनियों के एक जैसे प्लान के प्रीमियम में कुछ अंतर पाया जा सकता है।


सवाल: मैंने मैक्स लाइफ का यूलिप प्लान साल 2006 में लिया था। लेकिन प्लान खरीदने के 7 साल बाद भी इसमें किसी तरह की ग्रोथ नहीं दिखाई दे रही है। प्लान में बना रहूं या निकल जाऊं?


कार्तिक झवेरी: यूलिप प्लान के प्रीमियम काफी ज्यादा होते हैं। वहीं प्लान के शुरुआती साल में इसमें खर्च भी काफी ज्यादा होता है। साथ ही यूलिप प्लान में लंबे नजरिए की आवश्यकता होती है। ग्रोथ की बात की जाए तो इंश्योरेंस प्लान में निवेश का नजरिया रखना उचित नहीं है। निवेश के लिए म्युचुअल फंड जैसे विकल्पों पर विचार करना चाहिए। ऐसे में फिलहाल प्लान में बने रहना ही एक मात्र बेहतर विकल्प हो सकता है।


सवाल: मैं एक सरकारी कर्मचारी हूं, कंपनी की ओर से 50 लाख रुपये की इंश्योरेंस पॉलिसी है। इसके अलावा मैंने एलआईसी की जीवन आनंद, जीवन सरल और जीवन तरंग ऐसी 3 पॉलिसी ले रखी है। भविष्य में यदि कोई दुर्घटना हो जाती है तो क्या तीनों पॉलिसी से क्लेम प्राप्त होगा?


कार्तिक झवेरी: कंपनी के द्वारा जारी किया गया 50 लाख का बीमा तब तक ही रहेगा जब तक आप कंपनी के कर्मचारी रहेंगे। ऐसे में अतिरिक्त इंश्योरेंस पॉलिसी लेना एक उचित फैसला है। बात की जाए तीनों पॉलिसी से क्लेम की तो इससे अधिक पॉलिसी भी होती तब भी क्लेम जरूर मिलता है। वहीं एलआईसी की 3 पॉलिसी अपने पोर्टफोलियो में रखना ज्यादा फायदेमंद नहीं लग रहा है। जीवन तरंग और जीवन आनंद से निकलकर यदि ये पैसे म्युचुअल फंड में डालें तो ज्यादा मुनाफेदायक हो सकता है।


वीडियो देखें