Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनी: जरूरत के मुताबिक ही लें टर्म प्लान

प्रकाशित Thu, 14, 2013 पर 09:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इंश्योरेंस का व्यक्ति के जीवन का एक महत्वपू्र्ण हिस्सा है। भविष्य की किसी अप्रिय घटना से निपटने का रामबाण इलाज इंश्योरेंस ही होता है। इसलिए व्यक्ति को अपने और परिवार की सुरक्षा को ध्यान में रखकर पर्याप्त इंश्योरेंस लेना चाहिए। ट्रांसिट कंसल्टंसी के कार्तिक झवेरी इंश्योरेंस पॉलिसी पर अहम जानकारी दे रहे हैं।


सवाल: मेरी सालाना आय 14 लाख रुपये है। मैंने अविवा लाइफ का टर्म लिया है जिसका कवर 50 लाख रुपये है। वहीं 1 करोड़ रुपये कवर वाला एक और प्लान लेना चाहता हूं। क्या प्लान के साथ राइडर भी लिया जा सकता है?


कार्तिक झवेरी: सबसे पहले यह निश्चित करें की आपको कितने कवर की जरूरत है। उसके मुताबिक ही टर्म प्लान का कवर निश्चित करें। वहीं एक और टर्म प्लान की लेने की सोच रहे हैं तो जिस कंपनी का प्लान सस्ता मिले उसको प्राथमिकत दें। साथ ही टर्म प्लान के साथ राइडर लेने की आवश्यकता नहीं हैं, हालांकि एक्सिडेंटल राइडर लिया जा सकता है।


सवाल: मेरी उम्र 33 साल और मासिक आय 20,000 रुपये है। मैंने एलआईसी की जीवन आनंद पॉलिसी ली है, जिसका सालाना प्रीमियम 15,850 रुपये है। वहीं एचडीएफसी या अविवा का टर्म प्लान लेने पर विचार कर रहा हूं। लेकिन दोनों कंपनियों को प्लान के प्रीमियम में अंतर है। ऐसा क्यों है और किस कंपनी से प्लान लेना चाहिए?


कार्तिक झवेरी: सभी इंश्योरेंस कंपनिया आईआरडीए के अंतर्गत रेगुलेट होती हैं। ऐसे में बेफ्रिक होकर किसी भी कंपनी से टर्म प्लान ले सकते हैं। वहीं बाजार में प्रतिस्पर्धा के चलते इंश्योरेंस कंपनियों के प्लान के प्रीमियम में अंतर होता है। आपको जिस कंपनी का प्लान सस्ता लगे उसे ही लेना चाहिए।


सवाल: मैं एक सरकारी कर्मचारी हूं। निवेश और टैक्स सेविंग के लिहाज से एक इंश्योरेंस पॉलिसी लेना चाहता हूं। एलआईसी की जीनव आनंद और एंडोमेंट पॉलिसी कैसी हैं, क्या इन्हें लिया जा सकता है?


कार्तिक झवेरी: कोई भी इंश्योरेंस प्लान केवल टैक्स सेविंग के नजरिए से नहीं लेना चाहिए। वहीं इसमें निवेश का लक्ष्य भी नहीं होना चाहिए। निवेश के लिए म्युचुअल फंड और पीपीएफ जैसे विकल्प मौजूद हैं। एलआईसी की जीनव आनंद और एंडोमेंट पॉलिसी दोनों ही पॉलिसी के रिटर्न निराशाजनक रहे हैं। ऐसे में दोनों ही पॉलिसी में किसी को भी ना खरीदें। वहीं लाइफ कवर के लिए किसी सस्ते टर्म प्लान का चुनाव कर सकते हैं।


सवाल: मैंने एचडीएफसी लाइफ का 25 लाख रुपये के कवर का टर्म प्लान लिया है। अब मैं से कवर बढ़ाकर 50 लाख रुपये करना चाहता हूं। क्या मौजूदा कंपनी से ही बाकी का कवर लूं या फिर किसी दूसरी कंपनी का चुनाव करना चाहिए?


कार्तिक झवेरी: आप किसी भी कंपनी से बाकी के कवर के लिए टर्म प्लान ले सकते हैं। हालांकि मौजूदा कंपनी से प्लान लेने में थोड़ी आसानी जरूर होगी। लेकिन सुविधा और प्रीमियम में ज्यादा अंतर नहीं होगा। ऐसे में इंश्योरेंस कंपनी के प्लान के प्रीमियम की समीक्षा करें, जिस कंपनी का प्लान सस्ता लगे उससे बाकी का कवर लेना बेहतर होगा।


सवाल: मैं एक मल्टीलेवल कंपनी में इंजीनियर हूं। मैंने 1 लाख रुपये का टर्म प्लान लिया है। साथ एलआईसी की 3 पॉलिसी भी है। इसके अलावा कंपनी की ओर से 1,50,000 रुपये का मेडीक्लेम भी मिला है। लेकिन मैं और प्लान लेना चाहता हूं, कौन सा प्लान लेना बेहतर होगा?


कार्तिक झवेरी: कंपनी की ओर मिला कवर तब तक ही रहेगा जब तक आपकी नौकरी रहेगी। वहीं आपको अपने टर्म प्लान में कवर बढ़ाने की जरूरत है। परिवार की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कम से कम 10 लाख रुपये का कवर जरूर लें। टर्म प्लान का कवर आपकी सालाना आय का 10-12 गुना होना चाहिए। वहीं एलआईसी की पॉलिसी बंद करके वह पैसे म्युचुअल में लगाना चाहिए। जिसमें सालाना 14-15 फीसदी तक का रिटर्न प्राप्त हो सकता है।


वीडियो देखें