Moneycontrol » समाचार » टैक्स

जानिए टैक्स बचत के बेहतरीन विकल्प

प्रकाशित Sat, 21, 2013 पर 12:00  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स बचत के साथ बेहतर और सही निवेश करना जरूरी है ताकि भविष्य में उसका अच्छा लाभ मिले। टैक्स प्लानिंग से लेकर बचत और निवेश से जुड़े हर मोड़ पर टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया  करते हैं आपकी मदद और देते हैं आपको टैक्स के बेहतरीन टिप्स और फंडे ताकि आप रहे टैक्स टेंशन से फ्री।


सवाल : इनकम टैक्स विभाग इन दिनों कई तरह के विज्ञापन छाप रहा है। ज्यादातर विज्ञापन में हम पर नजर रखने की बात ही होती है। कहा जाता है कि हमारे हर लेन-देन, खर्चों का हिसाब-किताब आईटी डिपार्टमेंट रख रहा है। क्या सचमुच ये डरने वाली बात है? क्या इनकम टैक्स विभाग हमें डरा रहा है?


सुभाष लखोटिया : आईटी कानून के तहत एआईआर यानि एनुअल इंफॉर्मेशन रिटर्न का प्रावधान होता है। एआईआर के जरिए आईटी विभाग हमारे बड़े खर्चों और निवेश की जानकारी जुटाता है। एआईआर के तहत इनकम टैक्स विभाग 30 लाख रुपये या ऊपर की अचल संपत्ति की खरीद-बिक्री, एक साल में 2 लाख रुपये या ज्यादा का क्रेडिट कार्ड से हुआ खर्च, म्यूचुअल फंड में 2 लाख रुपये या उससे ज्यादा का निवेश, कंपनी या संस्था के 5 लाख रुपये या ज्यादा के बॉन्ड या डिबेंचर में निवेश, बैंक के बचत खाते में 10 लाख रुपये या उससे ज्यादा का कैश डिपॉजिट जैसी जानकारीयां जुटाता है।


इसके अलावा पब्लिक-राइट्स इश्यू से कंपनी के 1 लाख रुपये या उससे ज्यादा के शेयर खरीद, 1 साल में 1 लाख रुपये या ज्यादा के रिजर्व बैंक के बॉन्ड्स खरीद और कैश में 5 लाख रुपये का बुलियन या 2 लाख रुपये के गहनों की खरीद जैसी जानकारी रखता है।


सवाल : मेरे ससुरजी मेरी पत्नी को रिटायरमेंट फंड के 16 लाख रुपये देना चाहते है क्या इस पर टैक्स लगेगा?  


सुभाष लखोटिया : आपकी पत्नी अपने पिता से गिफ्ट ले सकती हैं और पिता अपनी बेटी को गिफ्ट दे सकते हैं। दोनों पर टैक्स की कोई देनदारी नहीं होगी। रिश्तेदार से गिफ्ट लेने पर कोई टैक्स नहीं लगता। बैंक एफडी का ब्याज पत्नी की इनकम में जुड़ेगा और फिर उस पर टैक्स लगेगा।


सवाल : नौकरी बदलने पर पुरानी कंपनी में 6000 रुपये बतौर नोटिस पेमेंट दिया। नई कंपनी से उन्हें इस पर रीइंबर्समेंट नहीं मिला। क्या इस रकम पर टैक्स छूट मिलेगी?


सुभाष लखोटिया : कंपनी को बतौर नोटिस पेमेंट दी गई रकम पर किसी तरह की टैक्स छूट नहीं मिलेगी। 


सवाल : कोई भी एचयूएफ मेंबर अपना पैसा दूसरे एचयूएफ को गिफ्ट कर सकता है और क्या एचयूएफ किसी से भी गिफ्ट ले सकता है?


सुभाष लखोटिया : एचयूएफ के सदस्यों को एचयूएफ को गिफ्ट नहीं करना चाहिए। अगर गिफ्ट करेंगे तो सेक्शन 64 के तहत क्लबिंग प्रावधान लागू होगा। एचयूएफ को दोस्तों से साल में 50,000 रुपये तक गिफ्ट टैक्स फ्री होता है। 50,000 रुपये के ऊपर की रकम पर टैक्स लगेगा। एचयूएफ को सदस्य ब्याज मुक्त लोन दे सकते हैं।


सवाल : टैक्स के लिहाज से किन जरूरी बातों को ध्यान में रखना चाहिए ताकि शादी-ब्याह की यादें सदाबहार बनी रहें? 


सुभाष लखोटिया : शादी-ब्याह में सभी खर्चों की पूरी जानकारी रखें ताकि जांच होने पर जवाब दे सकें। गिफ्ट की सूची बनाएं क्योंकि शादी के समय मिले गिफ्ट पर कोई टैक्स नहीं लगता। शादी के बाद घूमने जा रहे हैं तो ट्रिप के खर्च का पूरा ब्यौरा रखें।


सवाल : डेनमार्क की कंपनी में पार्ट टाइम कंसल्टेंट हैं। विदेशी कंपनी तनख्वाह अकाउंट में भेजती है। क्या इस पर टैक्स लगेगा?


सुभाष लखोटिया : पार्ट टाइम कंसल्टेंट के तौर पर मिली सैलरी प्रोफेशन से इनकम मानी जाएगी। प्रोफेशनल इनकम पर सामान्य तौर पर टैक्स लगेगा। आपको दो रिटर्न भरने की कोई जरूरत नहीं होगी। सारी इनकम एकसाथ जोड़कर टैक्स चुकाएं और रिटर्न भरें।


वीडियो देखें