Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स की उलझन सुलझाएं टैक्स गुरु के संग

प्रकाशित Sat, 28, 2013 पर 14:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स एक ऐसा टॉपिक जिसके बारे में हममें से ज्यादातर लोग सोचना पसंद नहीं करते हैं। उलटे इनकम टैक्स का नाम आते ही हम परेशान हो जाते हैं। हालांकि पूरे साल हमारी कोशिश रहती है कि हम ज्यादा से ज्यादा टैक्स बचाएं और इसके लिए हम कई तरह के निवेश भी करते हैं लेकिन फिर भी कई बार हम इनमें उलझ जाते हैं। आइए जानते हैं आपके इन्हीं उलझनों पर टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया की सलाह।

सवाल : किराए से इनकम को जोड़ते वक्त कौन-कौन से खर्चों पर टैक्स छूट मिलती है। साथ ही, क्या ये सभी खर्चे घर और कमर्शियल प्रॉपर्टी से किराए पर अलग-अलग होते हैं? 


सुभाष लखोटिया : आईटी कानून के तहत किराए से इनकम जोड़ते वक्त कुछ खर्चों पर टैक्स छूट मिलती है। किराए के घर से या कमर्शियल प्रॉपर्टी से, टैक्स छूट एक समान होती है। किराए का 30 फीसदी मरम्मत आदि के लिए काट सकते हैं। इस छूट के लिए किसी तरह के प्रूफ की जरूरत नहीं होती। साथ ही हाउस टैक्स या प्रॉपर्टी टैक्स के भुगतान पर छूट होती है। इसके अलावा प्रॉपर्टी खरीदने के लिए लोन लिया हो तो लोन के ब्याज पर भी छूट मिलती है।


सवाल : लोन पर मकान खरीदा है लेकिन इसका पजेशन अभी तक नहीं मिला है। क्या इस होम लोन पर टैक्स छूट का फायदा उठा सकता है? 


सुभाष लखोटिया : निर्माणाधीन घर के लोन के ब्याज पर कोई छूट नहीं मिलती। घर का पजेशन मिलने के बाद ही लोन के ब्याज पर टैक्स छूट का फ्यादा मिलेगा। सेक्शन 80सी के तहत आपको लोन रीपेमेंट पर टैक्स छूट मिलेगी। 


सवाल : क्या बच्चों की ट्यूशन फीस के लिए एजुकेशन अलाउंस लेकर सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट ले सकते हैं?


सुभाष लखोटिया : बच्चों की पढ़ाई के लिए एजुकेशन अलाउंस छूट ले सकते हैं। पढ़ाई पर हुए खर्च के लिए सेक्शन 80सी के तहत छूट मिलती है।


सवाल : रिटर्न में बैंक का टैन गलत भरा। आईटी विभाग से नोटिस मिला है। अब गलती कैसे सुधारें?


सुभाष लखोटिया : आप आईटी विभाग को गलती सुधारने का पत्र लिखें और इस तरह अपनी गलती सुधारकर रिवाइज रिटर्न भर सकते हैं।


सवाल : शेयर ट्रेडिंग से शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन होता है, तो शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन के केस में किस तरह के खर्चों पर छूट मिलती है?


सुभाष लखोटिया : शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन कमाने में हुए सभी वास्तवित खर्च पर छूट मिलेगी। शेयर की कीमत के साथ ही निवेश के लिए लिये लोन के ब्याज पर भी छूट मिलेगी। इसके अलावा बड़े पैमाने पर ट्रेडिंग के लिए स्टाफ रखा है तो उसका खर्च भी बतौर छूट मिलेगा। लेकिन अगर कम ट्रेडिंग की और स्टाफ का खर्च दिखाएंगे तो छूट नहीं मिलेगी।



वीडियो देखें