Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः कहां करें निवेश, कैसे हो बचत

प्रकाशित Sat, 25, 2014 पर 14:56  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नए साल का पहला महीना खत्म होने वाला है और फरवरी आने वाली है। यानी इस वित्त वर्ष के लिए टैक्स बचत की आखिरी तारीख पास आने वाली है। अब लोग सोचने लगे हैं कि कौन से उपाय करें जिससे टैक्स भी बचे और भविष्य की प्लानिंग भी हो जाए। बहुत से ऐसे सवाल होंगे जो आपके मन में होंगे लेकिन इस वक्त सिर्फ सोचने से काम नहीं चलेगा। इसीलिए टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया कुछ ऐसे उपाय लेके आपके सामने आए हैं जिनसे आपका टैक्स भी बचेगा और भविष्य प्लानिंग भी होगी।


टैक्स गुरु का कहना है कि टैक्स प्लानिंग करने के लिए 31 मार्च तक का इंतजार ना करें। अपनी कंपनी को आज ही अपने निवेश की जानकारी दें और नए निवेश करने हैं तो इसकी भी जानकारी अपने एम्पलॉयर को इसकी सूचना दें। इससे कंपनी आपका ज्यादा टैक्स नहीं काटेगी और निवेश के हिसाब से ही टैक्स की गणना करेगी। आप अभी से टैक्स प्लानिंग करने से बेहतर निवेश कर सकेंगे। अपने खर्चो, निवेश और बचत की सूची बनाएं। आप एम्प्लॉयर को सूचना दें कि आप कहां निवेश करेंगे और कौन से सेक्शन में निवेश करेंगे।


सेक्शन 80सी के तहत होने वाले निवेश


इंश्योरेंस


सभी कंपनियां आईआरडीए की नए नियम के मुताबिक नए प्रोडेक्ट लेकर आई हैं। आप कोई भी पलिसी लें लेकिन इसका प्रीमियम सम एश्योर्ड के 10 फीसदी से ज्यादा ना हो। अगर ज्यादा हुआ तो टैक्स छूट कम मिलेगी और मैच्योरिटी के समय टैक्स लगेगा। सेक्टन 80 सी के तहत केवल स्वंय, अपनी पत्नी और बच्चे के प्रीमियम पर टैक्स छूट मिलेगी। माताचपिता, भाई-बहन के पॉलिसी प्रमियम के भुगतान पर टैक्स छूट नहीं मिलेगी।


प्रॉविडेंट फंड


पीपीएफ टैक्स बचाने का उत्तम निवेश विकल्प है। पीपीएफ में 8.75 फीसदी का ब्याज मिलता है और इसके ब्याज पर टैक्स नहीं लगता है। आप इसमें सालाना 500 रुपये जमा करके निवेश कायम रख सकते हैं। प्रति साल 1 लाख रुपये तक के निवेश पर टैक्स छूट मिलती है। अपने पत्नी और बच्चों के अकाउंट में निवेश करके टैक्स छूट ले सकते हैं। हालांकि सभी निवेश मिलाकर कुल सिर्फ 1 लाख रुपये तक का निवेश कर सकते हैं। एचयूएफ का नया पीपीएफ अकाउंट नहीं खुल सकता है।


बच्चों की पढ़ाई पर खर्च करके टैक्स छूट


बच्चों की पढ़ाई पर खर्च करके टैक्स छूट ले सकते हैं। बच्चों की पढ़ाई पर सिर्फ भारत में स्थित शिक्षा संस्थान की ट्यूशन फीस पर ही टैक्स छूट मिल सकती है। अगर बच्चा विदेश में पढ़ रहा है तो टैक्स छूट नहीं मिलेगी। किसी भी तरह के फुल टाइम कोर्स पर टैक्स छूट मिलेगी। बच्चा नर्सरी में हो या दसवीं में इस पर टैक्स छूट मिलेगी। आईटी कानून के तहत सिर्फ ट्यूशन फीस पर ही टैक्स छूट मिलेगी। हालांकि उच्च शिक्षा के लोन रीपेमेंट पर सैक्शन 80सी के तहत कोई टैक्स छूट नहीं मिलती है।


सेक्शन 80 सी के तहत 5 साल के बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश कर सकते हैं। इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम्स, नई पेंशन स्कीम, बच्चों की ट्यूशन फीस आदि पर टैक्स बचाया जा सकता है। अगर आप नौकरी कर रहे हैं तो पीएफ में योगदान दें। एनएससी (नेशनल सेविंग सर्टीफिकेट) में निवेश कर सकते हैं। अगर सीनियर सिटीजन हैं तो सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में निवेश कर सकते हैं। पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट में भी निवेश के जरिए टैक्स बचा सकते हैं। घर के लोन पर रीपेमेंट करके टैक्स छूट ले सकते हैं।


वीडियो देखें