Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरू: आखिरी वक्त में कैसे बचाएं टैक्स

प्रकाशित Fri, 28, 2014 पर 14:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मार्च का आखिरी हफ्ता पास आ गया और ऐसे में सभी अपना टैक्स बचाने के लिए जुट गए हैं। तो जानिए टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया से कुछ ऐसे गुरु मंत्र जो आखिरी वक्त में बचाएंगे आपका टैक्स।


सवाल : 31 मार्च की डेडलाइन पास आ गई है, अब ऐसे में करदाताओं को टैक्स छूट के लिहाज से किन बातों का ध्यान रखना चाहिए और क्या है निवेश के विकल्प?   


सुभाष लखोटिया : किसी निवेश का सालाना प्रीमियम नहीं भरा या अन्य कोई वित्तीय दायित्व हों तो उसे पूरा करना चाहिए। सेक्शन 80सी के तहत निवेश करने से आपका टैक्स बचता है। करदाता सेक्शन 80सी के तहत मिलने वाले 1 लाख रुपये की छूट का फायदा जरूर लें। अगर आपने 1 लाख रुपये की पूरी छूट का फायदा नहीं लिया तो कुछ और निवेश करके फायदा उठाएं।


अगर इस साल आपने पीपीएफ अकाउंट में पैसे नहीं डाले हैं तो कम से कम 1000 रुपये का निवेश अब कर दें। इससे बिना किसी परेशानी के आप अपना पीपीएफ अकाउंट चालू रख पाएंगे। वेतन भोगी कर्मचारी ध्यान रखें कि अगर पति-पत्नी दोनों इनकम टैक्स देते हैं तो दोनों 80सी का अलग-अलग फायदा ले सकते हैं।  


अगर आपने अब तक इंश्योरेंस नहीं लिया है तो पॉलिसी जरूर लें। इससे टैक्स बचत के साथ ही भविष्य की भी प्लानिंग की जाती है। ध्यान रखें कि प्रीमियम का चेक 31 मार्च को या उससे पहले अकाउंट से निकल जाना चाहिए। अगर चेक 31 मार्च तक निकलता है तभी आपको टैक्स छूट का फायदा मिल पाएगा। मेडिक्लेम पॉलिसी में प्रीमियम का पेमेंट कैश में नहीं करना चाहिए। क्योंकि कैश पेमेंट करने पर टैक्स छूट नहीं मिलेगी। इसलिए ध्यान रखें कि मेडिक्लेम पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान अकाउंटपेयी चेक से ही करें, तभी टैक्स छूट मिलेगी अन्यथा नहीं मिलेगी। अगर अभी मेडिक्लेम पॉलिसी लेकर प्रीमियम भरा जाएं तो पूरे साल के लिए छूट का फायदा मिल सकेगा।  


आखिरी वक्त में राजीव गांधी इक्विटी सेविंग्स स्कीम में निवेश करने से फायदा नहीं होगा। क्योंकि इसमें डीमैट अकाउंट खोलने और औपचारिकताएं पूरी करने में वक्त लगता है और ऐसे में आरजीईएसएस में निवेश पर अब छूट का फायदा मिलने की उम्मीद नहीं है। एचयूएफ सेक्शन 80सी और 80डी का पूरा फायदा ले सकते हैं। परंतु राजीव गांधी इक्विटी सेविंग्स स्कीम का उसे फायदा नहीं मिलता है। एचयूएफ होमलोन पर उंचे ब्याज और बैंक ब्याज पर भी छूट का फायदा नहीं ले सकते हैं। 


सवाल : 15,000 रुपये ब्याज आता है। क्या 10,000 रुपये पर छूट लेकर सिर्फ 5,000 रुपये पर ही टैक्स दे सकते हैं? 


सुभाष लखोटिया : बैंक बचत खाते के ब्याज पर 10,000 रुपये की छूट मिलती है। तो आप 10,000 रुपये की छूट लेकर सिर्फ 5,000 रुपये पर ही टैक्स दे सकते हैं।


सवाल : वित्त वर्ष 2014-15 के लिए पीपीएफ में 1 लाख रुपये का निवेश 1 अप्रैल 2014 को करना चाहता हूं। क्या ये ठीक है?


सुभाष लखोटिया : साल के शुरु में निवेश करना अच्छा होता है। आप पीपीएफ में 1 अप्रैल को निवेश कर सकते हैं। जितने जल्दी निवेश करेंगे उतने ही जल्दी आपको रिफंड मिलेगा।


वीडियो देखें