Moneycontrol » समाचार » प्रॉपर्टी

इंडिया रियल एस्टेटः चुनाव से उम्मीदें

प्रकाशित Mon, 14, 2014 पर 12:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

चुनाव का बिगुल चुका है और सभी पार्टियों के लोकसभा चुनाव के घोषणा पत्र भी जारी हो चुके हैं। पार्टियों के घोषणा पत्र में रियल एस्टेट इंडस्ट्री के लिए भी तमाम चुनावी वादे किए गए हैं।


कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में देश के कारोबारी माहौल में सुधार का वादा किया है। कांग्रेस बिजनेस के लिए माहौल बनाएगी और देश में इंफ्रास्ट्रक्चर को और मजबूत बनाया जाएगा। भूमिहीन, गरीबों को आवास के अधिकार का संकल्प कांग्रेस के घोषणपत्र में लिया गया है।


वहीं बीजेपी ने सरकार बनने पर सभी राज्यों में एम्स जैसे इंस्टीट्यूट बनाने का वादा किया है। साथ ही देश में वर्ल्ड क्लास पोर्ट बनाए जाएंगे। घरों, इंडस्ट्री को गैस मुहैया कराने के लिए गैस ग्रिड बनाए जाएंगे। 50 नए टूरिस्ट सर्किट बनाए जाएंगे। एग्री रेल नटवर्क बिछाया जाएगा। बीजेपी की सरकार आती है तो इंडस्ट्री मंजूरियों के लिए सिंगल विंडो सिस्टम पर फोकस किया जाएगा।


एसोटेक के मैनेजिंग डायरेक्टर संजीव श्रीवास्तव का कहना है कि पार्टियों के घोषणा पत्र में रियल एस्टेट को जगह दिया जाना बड़ी उपलब्धि है, जो अब तक नदारद रहा करता था। हालांकि कांग्रेस के मुकाबले बीजेपी के घोषणा पत्र में रियल एस्टेट को लेकर ज्यादा तवज्जो दी गई है। लेकिन अब सबसे बड़ा सवाल यही है कि वादों को पटरी पर लाने के लिए क्या कदम उठाए जाएंगे।


वहीं प्रॉपर्टी एक्सपर्ट अरविंद नंदन का कहना है कि कांग्रेस ने सत्ता में रहकर रियल एस्टेट को ज्यादा तवज्जो नहीं दिया, तो क्या अब यूपीए सरकार से उम्मीद की जा सकती है क्या। वहीं बीजेपी के घोषणा पत्र पर अरविंद नंदन का कहना है कि यहां भी वादे किए गए हैं लेकिन किस तरह से अमल में वादों को लाया जाएगा ये बात गायब है।


वीडियो देखें