Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: फाइनेंशियल प्लानिंग पर जरूरी सलाह

प्रकाशित Tue, 06, 2014 पर 12:28  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

फाइनेंशियल प्लानर अर्नव पंड्या बता रहे हैं कैसे करें सही फाइनेंशियल प्लानिंग ताकि भविष्य के वित्तीय लक्ष्य को आसानी से हासिल किया जा सके।


सवाल: मेरी मां की उम्र 84 साल और उन्हें सालाना 84,000 रुपये की पेंशन मिलती है। वहीं हाल ही में उन्हें लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन के साथ इक्विटी पर 30,000 रुपये का मुनाफा हुआ है। साथ ही शॉर्ट टर्म गेन के रूप में 10,000 रुपये का मुनाफा भी मिला है। इसके अवाला टीडीए के साथ एफडी पर भी 10,000 रुपये मिले हैं। ऐसे में पूरे साल में कुल मिलाकर उनकी सालाना आमदनी 1.34 लाख हो गई है। क्या उन्हें टैक्स का भुगतान करना पड़ेगा?


जवाब: पेंशन द्वारा होने वाली आमदनी टैक्सेबल है। शॉर्ट टर्म गेन की स्थिति में भी कर का भुगतान करना होता है। इसके अलावा एफडी पर मिला इंटरेस्ट भी टैक्सेबल है। हालांकि लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन में टैक्स नहीं लगता है। वहीं आपकी मां एक सीनियर सिटीजन हैं, जहां कर छूट 2.5 लाख रुपये तक मिलती है। ऐसे में मौजूदा रकम पर फिलहाल किसी प्रकार के टैक्स का भुगतान करने की जररूत नहीं हैं। वहीं टीडीएस रीफंड के लिए रिटर्न भरें, जिससे टीडीएस वापस मिल जाएगा।


सवाल: मेरी उम्र 34 साल और सालाना आय 7.5 लाख रुपये है। मैंने एचडीएफसी टॉप200 में 5,000 रुपये, एचडीएफसी इक्विटी में 5,000 रुपये, रिलायंस इक्विटी में 1,000 रुपये, बिड़ला सन लाइफ इक्विटी में 1,000 रुपये, एचडीएफसी मिड कैप में 5,000 रुपये और एसबीआई इमर्जिंग में 5,000 रुपये प्रति महीने का निवेश कर रहा हूं निवेश किया है। इसके अलावा अवीवा लाइफ का 1 करोड़ रुपये का टर्म प्लान है। साथ क्रिटिकल इलनेस कवर 10 लाख रुपये और ग्रुप मेडिकल पॉलिसी 1.5 लाख रुपये की है। आगे चलकर भविष्य में बेटे की पढ़ाई पढ़ाई और शादी के लिए 50 लाख रुपये चाहिए। रिटायरमेंट के लिए 5 करोड़ रुपये की जरूरत होगी। क्या मौजूदा निवेश से लक्ष्य हासिल होगा?


जवाब: यह का फी बेहतर है कि निवेश और इंश्योरेंस की आपने सही नीति बनाई है। वहीं आप हर महीने 23,000 रुपये म्युचुअल फंड में डाल रहे हैं। ऐसे में 12 फीसदी के भी रिटर्न का आकलन किया जाए मौजूदा निवेश से वित्तीय लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। हालांकि रिलायंस इक्विटी में निकल जाएं और दूसरे अच्छे फंड में निवेश करें। वहीं आपके पास जो अतिरिक्त रकम है उसे क्वांटन लॉन्ग टर्म इंक्विटी फंड में डालें।


वीडियो देखें