वित्त मंत्री की बजट पूर्व बैठक शुरू

प्रकाशित Tue, 05, 2017 पर 13:23  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

राज्यों के चुनाव के बाद बाजार की नजर 1 फरवरी को आने वाले बजट पर रहेगी और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज से बजट पूर्व बैठक करना शुरू कर दिया है। आज उन्होंने कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों के साथ बैठक की। बैठक में वित्त मंत्रालय, कृषि मंत्रालय के अधिकारियों के साथ किसान संगठन के नेता और कृषि विशेषज्ञ शामिल थे। बैठक में फसलों के उत्पादन और एक्सपोर्ट-इंपोर्ट के बीच बेहतर तालमेल बैठाने के लिए कमिटी बनाने का सुझाव दिया गया है। साथ ही लघु सिंचाई पर खर्च बढ़ाए जाने की मांग की गई है।


वित्त मंत्री के साथ बैठक में एग्री सेक्टर ने आमदनी की गारंटी के लिए इनकम सिक्योरिटी कानून लाने की मांग की है। एग्री सेक्टर से जुड़े प्रतिनिधियों ने वित्त मंत्री के सामने मांग रखी है कि किसानों को तय आमदनी की गारंटी दी जाए। किसान, बटाईदार और खेतिहर मजदूर के लिए आमदनी की गारंटी तय की जाए। साथ ही एसेंशियल कमोडिटीज एक्ट खत्म करने और स्टॉक होल्डिंग लिमिट खत्म करने की मांग की गई है।


सब्जियों की कीमत पर काबू पाने के लिए टॉप कमिटी यानि टोमैटो, ओनियन और पोटैटो कमिटी बनाए जाने की मांग की है। स्वामीनाथन कमिटी की सिफारिशों पर चर्चा के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाने की मांग की है। कृषि उत्पादन और मशीनों पर जीएसटी हटाने की मांग की गई है। कृषि उत्पादन करने वाली को-ऑपरेटिव सोसायटी को इनकम टैक्स छूट देने की मांग की गई है।