Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

सोना कितना फायदेमंद, गोल्ड बॉन्ड में गोल्डन चॉन्स

प्रकाशित Fri, 21, 2017 पर 16:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अगले हफ्ते 28 तारीख को अक्षय तृतीया है। इस मौके पर सोना खरीदना शुभ माना जाता है। और इस मौके पर सरकार फिर से गोल्ड बॉन्ड लाने जा रही है। वित्त वर्ष 2018 के गोल्ड बॉन्ड का पहला चरण सोमवार यानि 24 अप्रैल को खुलेगा और इसमें 28 अप्रैल तक यानि अक्षय तृतीया तक पैसे लगा सकते हैं। इसके जरिए सरकार दरअसल सोने की फिजिकल डिमांड कम करना चाहती है। इससे पहले पिछले 2 सालों में सरकार 7 बार गोल्ड बॉन्ड जारी कर चुकी है। लेकिन इसमें लोगों का रुझान उम्मीद से काफी कम रहा। इस साल के दौरान सरकार का गोल्ड बॉन्ड में करीब 5 हजार करोड़ रुपये निवेश कराने का लक्ष्य है। लेकिन मार्च तिमाही में बढ़ा सोने का इंपोर्ट इस बात का संकेत है कि फिजिकल गोल्ड की डिमांड अभी भी जस की तस है। ऐसी ही चुनौतियों से निपटने के लिए गोल्ड बॉन्ड के इश्यू प्राइस में सरकार 50 रुपये का डिस्काउंट देने जा रही है।


निवेशकों को सहूलियत के लिए सरकार ने बाजार भाव से 50 रुपए कम इसका इश्यू प्राइस तय करने का फैसला लिया है। गोल्ड बॉन्ड का इश्यू प्राइस आईबीजेए यानि इंडियन बुलियन एंड ज्वेलरी एसोसिएशन के भाव से तय होगा। आवेदकों को ये बॉन्ड 12 मई को जारी होंगे जो बैंक, एसएचसीआईएल, पोस्ट ऑफिस, एनएसई और बीएसई पर उपलब्ध होंगे। इस बॉन्ड की मियाद 8 साल है लेकिन इसमें 5 साल बाद निकलने की सुविधा होगी। इसमें सालाना 500 ग्राम में निवेश किया जा सकेगा और निवेश की रकम पर सालाना 2.5 फीसदी ब्याज मिलेगा। भुगतान के लिए नकद 20,000 रुपये और बाकी ड्राफ्ट से देना होगा।


क्या गोल्ड बॉन्ड है निवेश का गोल्ड चांस, समझेंगे आगे। पहले आपको बता दें कि सरकार की ओर से आरबीआई जीएस एक्ट 2006 के तहत गोल्ड बॉन्ड जारी करता है जिसमें सिर्फ भारतीय निवेशकों को निवेश की सुविधा होती है। गोल्ड बॉन्ड में सोने को डीमैट फॉर्म में रखने की सुविधा होती है, इसको गिरवी रखकर बैंक से लोन भी ले सकते हैं। देश में सालाना करीब 1000 टन सोने की मांग है। वित्त वर्ष 2016 में गोल्ड बॉन्ड में 4908 करोड़ रुपये और 2017 में 3809 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था।


सोने की चाल की बात करें तो इस साल जनवरी में सोने का भाव 28,000 रुपये प्रति 10 ग्राम था जो फरवरी में बढ़ कर 29,750 रुपये प्रति 10 ग्राम, मार्च में गिरकर 27,800 रुपये प्रति 10 ग्राम और फिर अप्रैल में वापस बढ़कर 29,300 ग्राम तक पहुंच गया है।