Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

ईवीएम के ऑर्डर से मिलेगा फायदा: बीईएल

प्रकाशित Thu, 20, 2017 पर 14:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बीईएल के शेयर में इस हफ्ते 5 फीसदी तेजी देखने को मिली है। इस महीने कंपनी का शेयर 15 फीसदी उछला है वहीं इस साल शेयर में करीब 30 फीसदी की तेजी देखने को मिली है। बीईएल रक्षा क्षेत्र में काम करने वाली सरकारी कंपनी है। डिफेंस इलेक्ट्रॉनिक्स बनाने में कंपनी की विशेषज्ञता है। कंपनी में भारत सरकार की 68.19 फीसदी हिस्सेदारी है। फरवरी में ओएफएस के जरिए सरकार ने कंपनी में 5 फीसदी हिस्सेदारी बेची है। 2016-17 में कंपनी को लॉन्ग रेंज एयर मिसाइल आकाश मिसाइल सिस्टम के लिए ऑर्डर मिले हैं।


केंद्र सरकार ने चुनाव आयोग के लिए 3,000 करोड़ रुपये के वीवीपीएटी मशीन खरीद को मंजूरी दे दी है और इसके बाद कल बीईएल के शेयर में जोरदार तेजी आई थी। बीईएल ही वीवीपीएटी मशीन को बनाती है। ऐसे में बीईएल इस कदम को कैसे देख रही है और इसे इससे कितना फायदा होगा। इस पर बात करते हुए बीईएल के सीएमडी एम वी गौतम ने कहा कि चुनाव आयोग को करीब 25 लाख ईवीएम और 15 लाख वीवीपीएटी मशीनों की जरूरत है। इसमें से आधा ऑर्डर बीईएल और शेष आधा ऑर्डर इलेक्ट्रॉनिक कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया हैदराबाद को मिलेगा। बीईएल के लिए पूरा ऑर्डर 500-600 करोड़ रुपये का हो सकता है।


एम वी गौतम ने बताया कि ईवीएम कंपनी का रेग्युलर प्रोडक्ट नहीं है, इसके लिए चुनाव आयोग से चुनावों के समय ही छोटे-छोटे ऑर्डर मिलते हैं। लेकिन ये कंपनी का कम्प्लीट इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट प्रोडक्ट है, इस पर कंपनी का पेटेंट है। बीईएल दूसरे देशों को भी ईवीएम एक्सपोर्ट करती है।


एम वी गौतम ने बताया कि वित्त वर्ष 2017 में बीईएल को 16 हजार करोड़ रुपये का ऑर्डर मिला है। वित्त वर्ष 2018 की शुरुआत कुल 40 हजार करोड़ रुपये की ऑर्डर बुक से हुई है। उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2018 में भी कंपनी को करीब 16 हजार करोड़ रुपये के नए ऑर्डर मिलेंगे। उन्होंने आगे बताया कि पिछले साल कंपनी की आय में नान-डिफेंस सेगमेंट का योगदान करीब 12 फीसदी रहा था। वहीं इस साल ईवीएम के लिए मिलने वाले ऑर्डर की वजह से कंपनी के आय में नान-डिफेंस सेगमेंट का योगदान बढ़कर करीब 20 फीसदी हो जाएगा।