Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

एसेट क्वालिटी में और सुधार की उम्मीदः श्रेई इंफ्रा

प्रकाशित Tue, 16, 2017 पर 14:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज नो योर कंपनी में हमारे रडार पर है श्रेई इंफ्रा फाइनेंस। वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में श्रेई इंफ्रा का मुनाफा 3 गुना बढ़कर 62.7 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2016 की चौथी तिमाही में श्रेई इंफ्रा का मुनाफा 20.5 करोड़ रुपये रहा था। वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में श्रेई इंफ्रा की आय 62.2 फीसदी बढ़कर 1305.9 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2016 की चौथी तिमाही में श्रेई इंफ्रा की आय 805.3 करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में श्रेई इंफ्रा की प्रोविजनिंग 64.6 करोड़ रुपये से बढ़कर 250.4 करोड़ रुपये रही है, जबकि पिछले साल इसी तिमाही में प्रोविजनिंग 69 करोड़ रुपये रही थी। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में श्रेई इंफ्रा का डिस्बर्समेंट 4812 करोड़ रुपये से बढ़कर 5502 करोड़ रुपये रहा है, जबकि पिछले इसी साल तिमाही में डिस्बर्समेंट 3993 करोड़ रुपये रहा था।


तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में श्रेई इंफ्रा के इक्विपमेंट फाइनेंस कारोबार का ग्रॉस एनपीए 2.6 फीसदी से घटकर 2.38 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में श्रेई इंफ्रा के इक्विपमेंट फाइनेंस कारोबार का नेट एनपीए 1.8 फीसदी से घटकर 1.7 फीसदी रहा है।


श्रेई इंफ्रा के सीएमडी, हेमंत कनौड़िया का कहना है कि कंस्ट्रक्शन और माइनिंग सेक्टर में हलचल बढ़ने से अच्छी ग्रोथ देखने को मिली है। इक्विपमेंट फाइनेंसिंग में बेहतर ग्रोथ दिखी है, लेकिन प्रोजेक्ट फाइनेंसिंग में थोड़ी सुस्ती नजर आई है। दरअसल पावर सेक्टर में अभी भी ज्यादा एक्शन नहीं हो रहा है। आने वाले दिनों में सरकार के इंफ्रा प्रोजेक्ट्स पर फोकस से काफी फायदा होने की उम्मीद है।


हेमंत कनौड़िया के मुताबिक जल्द ही सेबी की ओर से श्रेई इंफ्रा की सब्सिडियरी भारत रोड नेटवर्क्स के आईपीओ को मंजूरी मिल सकती है। सेबी की मंजूरी मिलने के बाद जून या जुलाई तक भारत रोड नेटवर्क्स का आईपीओ लाने पर फोकस होगा। हेमंत कनौड़िया ने ये भी बताया कि ई-सेवाएं मुहैया कराने वाली कंपनी की सब्सिडियरी सहज के 65000 केंद्र खोले गए हैं। वित्त वर्ष 2018 में सहज के एबिटडा पॉजिटिव में रहने की उम्मीद है। हालांकि, अभी सहज में हिस्सा बेचने की कोई योजना नहीं है। हेमंत कनौड़िया का मानना है कि आगे श्रेई इंफ्रा की एसेट क्वालिटी में सुधार की पूरी उम्मीद है।