Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

सागरमाला प्रोजेक्ट से होगा फायदा: श्रेयस शिपिंग

प्रकाशित Tue, 13, 2017 पर 14:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

श्रेयस शिपिंग भारत की प्रमुख कोस्टल कंटेनर शिपिंग कंपनी है। भारत के प्रमुख पोर्ट और कंटेनर टर्मिनल से कंपनी जुड़ी हुई है। कंपनी अरब और बांग्लादेश को भी सेवाएं देती है। कंपनी के पास 9 समुद्री मालवाहक जहाज हैं। पूर्वी और दक्षिणी पोर्ट का अरब से सीधा संपर्क है। आज श्रेयस शिपिंग का शेयर 8 फीसदी उछला है वहीं इस पूरे साल में कंपनी के शेयर में करीब 65 फीसदी की उछाल आया है।


श्रेयस शिपिंग ने जापान की कंपनी के साथ करार किया है। इस करार के तहत जापान और दक्षिण पूर्व एशिया में कारोबार संभव होगा। वित्त वर्ष 2017 में कंपनी की आय 21 फीसदी बढ़कर 721 करोड़ रुपये रही है जबकि मुनाफा 79 फीसदी गिरकर 10.2 करोड़ रुपये रहा है। वित्त वर्ष 2017 में कंपनी का खर्च 26 फीसदी बढ़कर 673 करोड़ रुपये हो गया है। कंपनी पर करीब 150 करोड़ का कर्ज है।


श्रेयस शिपिंग एंड लॉजिस्टिक्स के सीईओ कैप्टन वी के सिंह ने सीएनबीसी-आवाज़ से बातचीत करते हुए कहा कि कंपनी ने जापान की सुजु कॉर्पोरेशन के साथ करार किया है। इस करार के तहत श्रेयस-सुजु लॉजिस्टिक्स इंडिया प्राइवेट लि. नाम की एक नई कंपनी बनाई जाएगी। ये नई कंपनी भारत में लॉजिस्टिक्स, इंटरनेशनल फ्रेट फॉरवर्डिंग और कस्टम क्लियरेंस का काम करेगी। इस करार के जरिए कंपनी को भारत में होने वाले जापानी निवेश का फायदा मिलेगा।


कैप्टन वी के सिंह ने कहा कि कंपनी इस करार के जरिए आगे वेयरहाउसिंग के कारोबार में भी निवेश कर सकती है। उन्होंने बताया कि कंपनी अभी 10 जहाजों के साथ काम कर रही है। आगे कंपनी को सागरमाला प्रोजेक्ट से भी फायदा मिल सकता है। इस साल 10-12 फीसदी का वॉल्यूम ग्रोथ देखने को मिलेगा जिससे कंपनी की आय में भी बढ़त होगी। लागत में कोई खास बढ़त न होने से कंपनी के प्रॉफिट मार्जिन में भी बढ़त होगी जो इस साल करीब 25 फीसदी के आसपास रह सकता है।