विप्रो ने की सैकड़ों कर्मचारियों की छंटनी -
Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

विप्रो ने की सैकड़ों कर्मचारियों की छंटनी

प्रकाशित Fri, 21, 2017 पर 08:44  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

देश के तीसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी विप्रो ने सैकड़ों कर्मचारियों की छंटनी की है। समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि सालाना परफॉर्मेंस अप्रेजल के बाद कंपनी ने करीब 600 लोगों को हटा दिया है। कंपनी 25 अप्रैल को अपना सालाना और साल के आखिरी क्वार्टर के नतीजे जारी करने वाली है। विप्रो के इस कदम को आईटी कंपनियों की मौजूदा चुनौतीपूर्ण स्थिति से जोड़कर भी देखा जा रहा है। अभी अमेरिका, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में वीजा नियमों की सख्ती के चलते आईटी कंपनियों फिलहाल मुश्किल दौर में हैं।


आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अमेरिका की एच1बी वीजा नीति पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि भारत की आईटी कंपनियां रोजगार के मौके बढ़ाने पर जोर देती है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस मामले को उच्च स्तर पर उठाया जा रहा है।


ट्रंप के फैसलों और भारतीय आईटी कंपनियों पर बात करते हुए समीक्षा कैपिटल के फाउंडर भाविन शाह का कहना है कि ट्रंप के फैसलों का असर फिलहाल तो निगेटिव होगा लेकिन ट्रंप के फैसलों का पॉजिटिव असर भी होगा। आगे आईटी कंपनियों के लिए क्लाउड से जुड़े नए अवसर पैदा होंगे। उन्होंने आगे कहा कि आईटी कंपनियों का नए सॉफ्टवेयर्स पर जोर था। पिछले कुछ सालों में नजरिया बदला है जिससे क्लाउड टेक्नोलॉजी से काम में काफी बदलाव आया है। अब नए सॉफ्टवेयर की जगह क्लाउड पर फोकस होगा। सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म की क्लाउड में जरूरत होगी। अब कंपनियों को मशीन लर्निंग और आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस में भी निवेश करना होगा।


आईटी कंपनियों में निवेश पर बात करते हुए भाविन शाह का कहना है कि आईटी कंपनियों के वैल्युएशन अभी भी ज्यादा हैं। निवेश के लिए थोड़ी और गिरावट का इंतजार करना चाहिए।