Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

छोटी बचत योजनाओं पर घटेंगी दरें, क्या करें

प्रकाशित Sat, 13, 2016 पर 16:53  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पर्सनल फाइनेंस यानी आपकी जिंदगी की वो प्लानिंग जहां आप अपने सभी आर्थिक फैसले, बेखौफ और बेझिक होकर ले सकें। योर मनी आपको इन्ही फैसलों को लेने का भरोसा देता है। यहां आपके निवेश से जुड़े मामलों पर जानकारी देने के लिए हैं ऑप्टिमा मनी मैनेजर के पंकज मठपाल, एटिका वेल्थ मैनेजमेंट के गजेंद्र कोठारी और निर्मल बंग के कुणाल शाह है।


नेशनल सेविंग स्कीम और पब्लिक प्रोविडेंड फंड जैसी छोटी बचत योजनाओं पर अब कम ब्याज मिलेगा। कर्ज सस्ता करने की मुहिम में सरकार ने छोटी ब्याज दरों पर पहली अप्रैल से ब्याज दर घटाने का फैसला किया है और हर साल की बजाय हर 3 महीने पर ब्याज दरों की समीक्षा करने का फैसला लिया है।


अब हर 3 महीने पर छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों की समीक्षा की जाएगी। अब से सरकारी बॉन्ड के आधार पर ब्याज दरें तय होंगी। छोटी सरकारी बचत योजनाओं पर ब्याज दरें घटेंगी। हालांकि सुकन्या समृद्धि योजना, सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम पर असर नहीं होगा। अभी छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज की दर 8.4-9.3 फीसदी के बीच होगी। बैंकों की जमा योजनाओं में 7.5-8 फीसदी ब्याज मिलेगा। इससे बैंकों के लिए कर्ज पर ब्याज दरें घटाने का रास्ता साफ हो गया है।


इस फैसले के बाद किन स्कीम में ब्याज घटेगा तो देखें कि पोस्ट ऑफिस की 1 से 5 साल के टर्म डिपॉजिट पर, 5 और 10 साल के नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट, 100 महीने वाले किसान विकास पत्र और 5 साल वाले पब्लिक प्रॉविडेंट फंड जैसी योजनाओं पर फर्क पड़ेगा।


वीडियो देखें