Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

टैक्स छूट के लिए निवेश के बेहतरीन विकल्प

प्रकाशित Tue, 04, 2017 पर 12:55  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नया वित्तीय वर्ष शुरू हो गया है, क्या आपने इस साल के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग कर ली है। नहीं तो हम लेकर आए हैं योर मनी की ये खास पेशकश जिसमें हम कराएंगे आपकी पूरी साल की प्लानिंग। चाहे वो निवेश का मामला हो या टैक्स का, हम सभी पहलुओं पर विस्तार से प्लानिंग के टिप्स देंगे और इसमें हमारी मदद करेंगे रूंगटा सिक्योरिटिज के डायरेक्टर हर्षवर्धन रूंगटा।


टैक्स छूट के लिए निवेश :-
नए साल की शुरुआत से ही टैक्स छूट के लिए निवेश शुरू करना चाहिए। साल की शुरुआत से निवेश करने से ज्यादा टैक्स छूट मिलती है। आपको अपनी आय के मुताबिक टैक्स देनदारी का पता करना चाहिए और टैक्स देनदारी के मुताबिक छूट के लिए निवेश करना चाहिए। टैक्स छूट के लिए पीपीएफ और ईएलएसएस में निवेश करना चाहिए। टैक्स स्लैब में बदलाव से होने वाली बचत को भी निवेश करना चाहिए। टैक्स स्लैब में बदलाव से 5 लाख रुपये तक की आय वालों को 12500 रुपये की बचत होगी।


रिटर्न भरने की तैयारी :-
करदाताओं को इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए दस्तावेज जमा करना चाहिए। फॉर्म 16, टीडीएस सर्टिफिकेट जमा करना चाहिए। करदाता फॉर्म 26एएस से काटे गए टैक्स की जानकारी हासिल कर सकते हैं। अगर फॉर्म 26एएस में कटा हुआ टैक्स नहीं दिख रहा है तो आप सुधार करवा सकते हैं। सीनियर सिटीजन बैंक में फॉर्म 15जी या 15एच जमा करवाना चाहिए। इस साल से आईटी रिटर्न के लिए आधार देना जरूरी होगा। और अगर आधार नहीं बनवाया है तो बनाने के लिए अर्जी दें।


पोर्टफोलियो में बदलाव :-
करदाताओं को अपने निवेश पोर्टफोलियो की समीक्षा करनी चाहिए और प्रदर्शन के आधार पर निवेश में बदलाव करते रहना चाहिए। साथ ही आय बढ़ने पर अपने निवेश को बढ़ाते रहना चाहिए।


सवालः छोटी बचत योजनाओं में ब्याज घट गया है, क्या इनमें निवेश जारी रखें या दूसरे विकल्प तलाशें?


सलाहः दरों में कटौती के बावजूद छोटी बचत योजनाएं आकर्षक है। टैक्स फ्री रिटर्न के लिए पीपीएफ अभी भी बेहतर विकल्प है। पीपीएफ में 7.90 फीसदी का टैक्स फ्री रिटर्न मिलता है। टर्म डिपॉजिट के रिटर्न भी बैंक एफडी से बेहतर हैं।


सवालः सुकन्या समृद्धि योजना की दरों में बदलाव हुआ, क्या आगे इतना ही ब्याज मिलता रहेगा या इसमें पीपीएफ की तरह बदलाव होता रहेगा?


सलाहः सुकन्या समृद्धि योजना में 1 अप्रैल से 8.4 फीसदी ब्याज मिलेगा। सुकन्या समृद्धि योजना की दरें भी पीपीएफ की तरह बदलेंगी।


सवालः बैंक डिपॉजिट को लेकर क्या करना चाहिए, क्या मौजूदा दरों में लॉक इन किया जा सकता है?


सलाहः आगे ब्याज दरों में और कटौती के आसार हैं। लंबी अवधि के लिए एफडी में हाल की दरों पर लॉक इन कर सकते हैं।