Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनीः कैसे चुनें सही फाइनेंशियल प्लानर

प्रकाशित Mon, 25, 2017 पर 13:47  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएफए इंस्टीट्यूट की एक रिपोर्ट के मुताबिक 64 फीसदी भारतीय निवेश के लिए रोबो अडवाइजरी पर निर्भर करते हैं। वहीं, 55 फीसदी चाइनीज आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर निवेश के निर्णय छोडते हैं। ऐसे में, आपके मेहनत की गाढ़ी कमाई, ऑनलाइन प्लान करना, या किसी और पर उसे प्लान करने की जिम्मेदारी डाल देना, कितना सही है, और अगर आप ऐसा करना चाहते हैं, तो किन बातों को ध्यान में रखें, योर मनी में आपको यही समझा जाएगा। आपकी मदद करने के लिए हमारे साथ जुड़े हैं वाइसइनवेस्ट एडवाइजर के हेमंत रूस्तगी


हेमंत रूस्तगी का कहना है कि सभी को फाइनेंशियल प्लानर की जरूरत नहीं होती है। अगर आपको फाइनेंशियल प्लानर की जरूरत पड़ती है तो फिर जानकारी और अनुभव के आधार पर चुनें। फाइनेंशियल प्लानर के लिए अच्छी सर्विस भी पैमाना होना चाहिए। फाइनेंशियल प्लानर की कंपनी में इस्तेमाल की जाने वाली टेक्नोलॉजी भी जरूर देखें। समय-समय पर पोर्टफोलियो की समीक्षा करने वाले प्लानर पर भरोसा करें। बहुत सारे क्लाइंट वाले फाइनेंशियल प्लानर से बचें और फाइनेंशियल प्लानर को चुनने में जल्दबाजी ना करें।


हेमंत रूस्तगी के मुताबिक निवेश में अनुशासन होना जरूरी है, ऐसे में किस एसेट में कितना निवेश करना है ये फाइनेंशियल प्लानर से समझें। पोर्टफोलियो की समय-समय पर समीक्षा जरूरी है। बाजार की ज्यादा जानकारी ना होने पर प्लानर पर निर्भरता बढ़ेगी। लिहाजा बाजार में उतार-चढ़ाव का पोर्टफोलियो पर असर समझें। पोर्टफोलियो पर खबरों के असर की चर्चा भी जरूरी है। बाजार को लेकर अपनी जानकारी बढ़ाएं क्योंकि खुद को जानकारी होने पर सही कदम उठा सकेंगे।