Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनीः जिंदगी के बाद भी परिवार की कैसें करें मदद

प्रकाशित Thu, 16, 2017 पर 14:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

निवेश और इंश्योरेंस साथ-साथ चलते हैं। निवेश में इंश्योरेंस नही, और इंश्योरेंस में निवेश नही, अगर ये गुरूमंत्र आप समझ जाएं, तो आपके लक्ष्य के लिए आप कर सकेगें सही प्लानिंग।


हम जीवित रहते, इतनी प्लानिंग करते हैं, लक्ष्य तय करके निवेश करते हैं, सपने देखते हैं, लेकिन अगऱ कोई अनहोनी हो जाए, और आपके परिजनों को इस फाइनेंशियल प्लानिंग के बारे में पता ना हो, तो आपकी सारी वित्तीय योजनाएं, धरी की धरी रह जाएंगी। लेकिन जब तक योर मनी आपके साथ है, हम ऐसा बिल्कुल होने नही दें सकते। इसलिए हम आपको बताएंगें फिनपीस के बारें में जो आपकी फाइनेंशियल एसेंट की ओनरशिप में आपके परिजनों की मदद करता है। इसी पर चर्चा करने के लिए हमारे साथ एलजे बिजनेस स्कूल की पूनम रूंगटा और फिनपीस टेक्नोलॉजी के सीईओ एंड को-फाउंडर निर्मल के रेवारिया।


फिनपीस टेक्नोलॉजी के सीईओ एंड को-फाउंडर निर्मल के रेवारिया का कहना है कि फिनपीस सर्विसेज के तहत आपको ई-वॉलेट मिलेगा और उसके जरिए आप अपने जरूरी दस्तावेज ई-वॉलेट में जमा कर सकते हैं। फिनपीस आपको डेप्युटी नियुक्त करने में मदद करता है। रेवारिया का कहना है कि ऐप पर अपने निवेश की जानकारियां अपलोड करें। ऐप पर आपके खर्च, निवेश और बचत का पूरा ब्यौरा देना होता है। फिनपीस की ऐप बेस्ड सर्विस भी है।


एलजे बिजनेस स्कूल की पूनम रूंगटा का कहना है कि फिनपीस सर्विसेज जिस विचार धार के आधार पर शुरु किया गया हैं जो बहुत ही सराहनीय हैं। और सभी निवेशकों को इसमें पोर्टफोलियों रखना चाहिए। फिनपीस में विशलिस्ट बनाने की सुविधा दी हैं। जो आपके बुरे वक्त में आपके लिए बेहतर काम करेंगा। इसमें तहत वीडियो, ऑडियो या टेक्स्ट के जरिए विशलिस्ट बनाएं गये हैं।


पूनम रूंगटा के अनुसार फिनपीस सर्विसेज मौत के बाद, नॉमिनी को वित्तीय ओनरशिप दिलाने में सहायता देती हैं और यह इसका ऐप बेस्ड सर्विस भी हैं।