Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: 60 साल के बाद भी कैसे हो बेफिक्र जिंदगी

प्रकाशित Tue, 07, 2016 पर 11:40  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज के समय में नौकरी करना और घर चलाना काफी नहीं है। अगर आप बिजनेस करते हैं या करने की सोचते हैं तो और भी ज्यादा जरूरी है कि निवेश की सही प्लानिंग करें। सिर्फ निवेश की प्लानिंग ही नहीं बल्कि इस पर अमल करना भी उतना ही जरूरी है। सुरक्षित भविष्य सुनिश्चित करने के लिए नियमित निवेश बहुत जरूरी है। कहां करें निवेश, क्या है आपके लिए निवेश की सही स्ट्रेटजी, कैसे आपका 1 रुपया बढ़कर 10 रुपया बनेगा। यहां आपको निवेश से जुड़ी इन सभी बारीकियों पर अपनी राय देने के लिए हमारे साथ हैं ऑप्टिमा मनी मैनेजर के मैनेजिंग डायरेक्टर पंकज मठपाल


60 साल के बाद भी कैसे हो बेफिक्र जिंदगी इस मुद्दे पर अपनी राय देते हुए पंकज मठपाल ने कहा कि सबसे बड़ी बात ये है कि आपके पास पर्याप्त पेसे होने चाहिए। आप आज जितना खर्च कर रहे हैं, उस खर्च पर महंगाई को ध्यान में रखते हुए बचत करनी चाहिए। क्योंकि आगे चलकर आपकी जरुरतें महंगी होती जाएंगी। तो जो भी आपकी आज की कॉस्ट है उस पर महंगाई को ध्यान में रखते हुए आपको ये देखना चाहिए कि आपको रिटायरमेंट के बाद जिंदगी जीने के लिए कितना पैसा लगेगा। आपको अब रिटायरमेंट की प्लांनिग करते समय ये भी ध्यान रखना होगा की बढ़ती मेडिकल सुविधाओं की वजह से औसत आयु भी बढ़ रही है। ऐसे में आपको लंबी अवधि के लिए पैसों की प्लानिंग करनी होगी।


पंकज मठपाल के मुताबिक रिटायरमेंट के लिए पेंशन या एन्युटी में निवेश अच्छा विकल्प है। इसके अलावा रिटायरमेंट के लिए म्युचुअलफंड में भी निवेश किया जा सकता है। इसके लिए आप इक्विटी या बैलेंस फंड में निवेश कर सकते हैं। आपको बता दें कि इक्विटी या बैलेंस फंड में निवेश पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स में छूट मिलती है। इक्विटी या बैलेंस फंड में निवेश पर डिविडेंड पर भी टैक्स छूट मिलती है। रिटायरमेंट के लिए एसआईपी के जरिए म्युचुअलफंड में निवेश किया जा सकता है।


पंकज मठपाल ने आगे कहा कि एमएफ में जमा पैसे से रिटायरमेंट के बाद एन्युटी खरीद सकते हैं। एन्युटी से आपको नियमित आय होती रहेगी। छोटी अवधि की एन्युटी में 5-7 फीसदी रिटर्म मुमकिन है। आपको बता दें कि एन्युटी से होने वाली आय पर टैक्स लगता है। निवेशकों के पास सिंगल लाइफ और ज्वाइंट लाइफ एन्युटी के विकल्प होते हैं। पंकज मठपाल की राय है कि रिटायरमेंट के लिए 30 साल के खर्च के बराबर पैसे बचाएं।


पंकज मठपाल ने बताया कि एलआईसी, एसबीआई, आईसीआईसीआई प्रू, एचडीएफसी जैसी कंपनियां पेंशन प्लान ऑफर करती हैं। जिनके तहत रिटायमेंट के बाद नियमित अंतराल पर पैसे मिलते हैं। पेंशन प्लान में निवेश के दो चरण होते हैं। पहले चरण में वेल्थ क्रिएशन के लिए निवेश होता है। वहीं दूसरे चरण में जमा हुए पैसे कम अवधि के एन्युटी में निवेश किए जाते हैं।


वीडियो देखें