Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: जीएसटी से आप पर कितना असर!

प्रकाशित Wed, 03, 2016 पर 20:24  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

देश में आजादी के बाद का सबसे बड़ा टैक्स रिफॉर्म हकीकत बनने ही वाला है। लेकिन इस जीएसटी के आने से हमारी और आपकी जिंदगी पर क्या असर पड़ेगा, कैसे जीएसटी सीधे तौर पर आपकी जिंदगी से जुड़ी हुई है, एक टैक्स एक देश से क्या सस्ता होगा और क्या महंगा हो जाएगा कहां आपका खर्च बढ़ जाएगा तो कहां बचत होगी, क्या जीएसटी के बाद भविष्य के लिए प्लान करना महंगा पड़ेगा, क्या क्रेडिट कार्ड से खर्च करना महंगाई की किस्त बढ़ने जैसा होगा? ऐसे कई सवाल आपके जेहन में उठ रहे होंगे। जीएसटी के आने के बाद कैसे बदलेगी हमारी जिंदगी, इस मुद्दे पर बात करने के लिए हमारे साथ हैं खास मेहमान वाइज इंवेस्ट एडवाइजर्स के हेमंत रुस्तगी, एडवाइश्योर के अभिमन्यु सोपट और फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पंड्या।


जीएसटी का महंगाई पर असर पर बात करते हुए जानकारों का कहना है कि जीएसटी से कुछ समय के लिए महंगाई बढ सकती है। बढ़ी हुई महंगाई के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग करें। बाद में कुल टैक्स का बोझ घटने से महंगाई घटेगी। जानकारों का कहना है कि मौजूदा टैक्स सिस्टम में कई सारी खामियां हैं। इन खामियों के कारण कुल टैक्स ज्यादा हो जाता है और सभी को इनपुट टैक्स का क्रेडिट नहीं मिलता। जीएसटी से इनपुट टैक्स का क्रेडिट का दायरा बढ़ेगा। इनपुट क्रेडिट का दायरा बढ़ने से महंगाई घटेगी।


जानकारों के मुताबिक जीएसटी लागू होने पर कुल टैक्स घटने से निवेश के लिए ज्यादा पैसा आएगा। सर्विस टैक्स बढ़ने से कई प्रोडक्ट्स के चार्ज बढ़ेंगे। इंश्योरेंस, क्रेडिट कार्ड, लोन के चार्ज में बढ़ोतरी मुमकिन है। फिलहाल सर्विस टैक्स की दर 14 फीसदी है। सर्विस टैक्स पर कृषि कल्याण और स्वच्छ भारत सेस भी लागू है। जीएसटी आने से सर्विस टैक्स 18 फीसदी हो सकता है। जीएसटी आने से यूलिप, हेल्थ इंश्योरेंस और टर्म प्लान पर टैक्स बढ़ेगा। कानूनी और प्रोफेशनल सर्विस पर भी टैक्स बढ़ेगा।


वीडियो देखें