Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: कैसे तय करें होम लोन की ईएमआई

प्रकाशित Sat, 19, 2016 पर 17:18  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

समय समय पर निवेश बढ़ाना, आपको अपने लक्ष्य के करीब ले जाता है, उसे पाने में आपको सफल बनाता है। लेकिन वो कौन से लक्ष्य हैं, जिनके लिए आपको फाइनेंशियल प्लानिंग करनी चाहिए ये और बहुत कुछ बताता है योर मनी।  आज आपके निवेश से जुड़े सवालों के जवाब दे रहे हैं एटिका वेल्थ मैनेजमेंट के एमडी और सीईओ गजेंद्र कोठारी


सबसे पहले बात करते हैं आपके सपनों के आशियाने की। जब हम घर लेने का सोचते हैं, हर छोटी बडी बात मायने रखती है। डाउनपेमेंट, ईएमआई तो आज हमने सोचा आपको होम लोन लेने की इन बारीकियों से ही रूबरू कराते हैं।  


आपका होम लोन आपकी वर्तमान आमदनी, आपकी जरूरत, आपकी लाइफस्टाइल, भविष्य में आपको कितनी आय होगी इस पर निर्भर करता है। बैंक घर की कीमत का करीब 80 फीसदी लोन देते हैं। 20 फीसदी हिस्सा आपको डाउन पेमेंट के तौर पर देना होता है। आप जितना ज्यादा डाउन पेमेंट देंगे आपको उतना कम लोन लेना होगा। अगर आप 1 करोड़ रुपये 10 फीसदी ब्याज दर पर 20 की अवधि के लिए लेते हैं तो आपको कुल 2.31 करोड़ रुपये का भुगतान करना होगा। इसी तरह अगर आप 80 लाख रुपये 10 फीसदी ब्याज दर पर 20 की अवधि के लिए लेते हैं तो आपको कुल 1.85 करोड़ रुपये का भुगतान करना होगा।


पहले घर के लिए लोन के ब्याज पर 2 लाख रुपये तक की टैक्स छूट मिलती है। टैक्स छूट के कारण होम लोन लेना फायदेमंद होता है। होम लोन की ईएमआई आपकी सैलरी की करीब 35-45 फीसदी होनी चाहिए। 35 लाख रुपये तक के लोन पर 50,000 रुपये की अतिरिक्त टैक्स छूट मिलती है।


वीडियो देखें