Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: ऑनलाइन बनाम ऑफलाइन निवेश, कौन बेहतर

प्रकाशित Thu, 25, 2016 पर 11:31  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

फाइनेंशियल प्लानिंग जितनी जल्दी शूरू कि जाए, उतना अच्छा होगा। और यही बात आज का युथ बखूबी समझता है। बेहतर लाइफस्टाइल और अपने सपनों में तालमेल बैठाने के लिए सही फाइनेंशियल प्लानिंग ही एक रास्ता है, जो आप अपना सकते हो। योर मनी में आपको सही फाइनेंशियल प्लानिंग की तरीका बता रहे हैं ऑप्टिमा मनी मैनेजर के डायरेक्टर पंकज मठपाल। लेकिन सबसे पहले बात करते हैं ऑनलाइन निवेश की।


ऑनलाइन शॉपिंग के बढते चलन से फाइनेंशियल प्रोडक्टस की खरीदारी भी ऑनलाइन बढ़ रही है। कम कीमत और ट्रांजैक्शन में आसानी की वजह से हम सब अपने निवेश या इंश्योरेंस का फैसला ऑनलाइन करना बेहतर समझते हैं, लेकिन हमेशा ऑनलाइन, जिंदगी के इतने बडे फैसले लेना ठीक नहीं। यहां ये बताया जा रहा है कि आपको किन सूरतों में कोई फाइनेंशियल प्रोडक्ट ऑनलाइन खरीदने से बचना चाहिए।


पंकज मठपाल ने बताया कि फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स ऑनलाइन खरीदना की बार फायदेमंद होते हैं। ऑनलाइन इंश्योरेंस प्लान ऑफलाइन के मुकाबले सस्ते होते हैं। म्युचुअल फंड के डायरेक्ट प्लान भी सस्ते होते हैं। लेकिन एक बात ध्यान रखें की फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स की रिटर्न पॉलिसी आसान नहीं होती अगर एक बार आपने किसी फाइनेंशिय प्रोडक्ट की खरीद कर ली तो पसंद आने पर उसको वापस करने का विकल्प आपके पास नहीं होता। पंकज मठपाल की सलाह है कि अगर आप प्रोडक्ट नहीं समझते हैं तो ऑनलाइन उसकी खरीद ना करें। इसके अलावा ऑनलाइन ट्रांजेक्शन में सुरक्षा का जोखिम भी होता है। इसलिए अगर आपको इंटरनेट की जानकारी नहीं है तो भी ऑनलाइन खरीदारी से बचें। अगर आप नए निवेशक हैं तो भी आपको ऑनलाइन प्रोडक्ट ना खरीदे की ही सलाह होगी।


वीडियो देखें