Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

आगे गिरावट की आशंका, फिर मिलेगा खरीद का मौका

प्रकाशित Mon, 16, 2018 पर 11:41  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार की आगे की चाल और दिशा पर बात करते हुए एंबिट कैपिटल के सौरभ मुखर्जी का कहना है कि इंफोसिस की तरफ से निराशा मिलने के बावजूद अभी भी एक अच्छे पोर्टफोलियों में अभी भी एक अच्छे लार्ज कैप आईटी स्टॉक की जगह बनी हुई है। ग्लोबल इकोनॉमी में आ रहे सुधार और रुपये में कमजोरी से आईटी सेक्टर को फायदा होगा।


होने वाले चुनावों पर सौरभ मुखर्जी की राय है कि इकोनॉमी पर चुनावों का कोई खास असर नहीं होता। सौरभ मुखर्जी का मानना है कि करेक्शन के बावजूद बाजार अभी भी महंगा है। अगर किन्ही भी कारणों से बाजार में 10-15 फीसदी का और करेक्शन आता है तो भारतीय बाजार में निवेश करना बहुत ही आकर्षक हो जाएगा।


सौरभ मुखर्जी का कहना है की बाजार पर ग्लोबल जियोपोलिटकल रिस्क बना हुआ है। अगर क्रूड 70 डॉलर के ऊपर टिका तो देश की इकोनॉमी पर दबाव बनेगा। इसके अलावा भारतीय बाजार के साथ ही इस समय पूरी दुनिया के बाजार ओवर वैल्यूड हैं। जिसको देखते हुए पूरी दुनिया के बाजारों में भारी गिरावट संभव है।


सौरभ मुखर्जी के मुताबिक भारतीय बाजारों में गिरावट की स्थित में बैंकिंग और फाइनेंस सेक्टर में सबसे ज्यादा गिरावट देखने को मिलेगी। क्योंकि अगर बाजार 10 फीसदी ओवर वैल्यूड है तो बैंकिंग और फाइनेंस सेक्टर 20 फीसदी ओवर वैल्यूड है।


सौरभ मुखर्जी का कहना है कि ग्रामीण इकोनॉमी पर सरकार के जोर की वजह से ट्रैक्टर, एफएमसीजी, टू-व्हीलर कंपनियों को फायदा हो सकता है। दूसरा एक और सेक्टर है मेटल और माइनिंग जिसमें आगे अच्छी ग्रोथ देखने को मिलेगी। निवेशक एग्री, मेटल और माइनिंग सेक्टर से जुड़े क्वालिटी शेयरों पर दांव लगा सकते हैं।