Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स लगाना गलत: रसेश शाह

प्रकाशित Fri, 12, 2018 पर 10:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आवाज की 13वीं सालगिरह पर सीएनबीसी-आवाज़ बाजार के बड़े दिग्गजों से बात कर रहा है। इसी कड़ी में बात हुई एडेलवाइस के चेयरमैन रसेश शाह से। उनका मानना है कि आने वाले 13 साल पिछले 13 साल से ज्यादा दिलचस्प होंगे। उन्होंने ये भी कहा कि लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स लगाने से बाजार और निवेशकों का सेंटिमेंट बिगडेगा।


फिक्की की प्राथमिकता पर बात करते हुए रसेश शाह ने कहा कि जीएसटी को और कारगर बनाने पर काम जारी है। आगे इन्सॉल्वेंसी, नौकरियां और एसएमई को बढ़ाने पर फोकस होगा।


कहां निवेश फायदेमंद रहेगा? इस सवाल पर रसेश शाह ने कहा कि जिन कंपनियों का मुनाफा बढ़ रहा है, वो शेयर चलेंगे। इस साल कंपनियों के मुनाफे में अच्छी बढ़त दिखेगी। अक्टूबर के बाद इकोनॉमी में सुधार दिख रहा है। ऑटो, स्टील, रियल एस्टेट, हाउसिंग में सुधार के साफ संकेत हैं। लेकिन निजी निवेश को पटरी पर आने में 6-8 महीने और लगेंगे।


बजट से उम्मीदों पर बात करते हुए रसेश शाह ने कहा कि कैपिटल गेन्स टैक्स में कोई भी फेरबदल गलत होगा। लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स लगने से सेंटिमेंट बिगड़ेगा। इकोनॉमी को रिस्क कैपिटल की सख्त जरूरत है। वित्तमंत्री कॉरपोरेट टैक्स पर अपना वादा पूरा करना चाहिए। इसको 27-28 फीसदी तक लाने का वक्त आ गया है। कॉरपोरेट टैक्स घटने से निजी इन्वेस्टमेंट बढ़ेगा। इसके अलावा सरकार गांवों और सामाजिक कार्यों पर खर्च बढ़ाना चाहिए। मौजूदा हालात में वित्तीय घाटे में बढ़ोतरी भी जायज है। उन्होंने आगे कहा कि फाइनेंशियल मार्केट में जबरदस्त बदलाव आ रहा है। आने वाले 13 साल पिछले 13 साल से ज्यादा रोचक रहेंगे।