Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

बाजार में कायम रहेगी मजबूती, कहां है जोरदार कमाई का मौका

प्रकाशित Mon, 15, 2017 पर 11:30  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार के जाने-माने जानकार उदयन मुखर्जी का कहना है कि बाजार में बड़ी गिरावट की आशंका काफी कम है। दरअसल बाजार में अब ऐसा धारणा बन रही है कि आगे 4-5 सालों तक कंपनियों के नतीजों में जबर्दस्त सुधार माहौल बनने वाला है, और इसी उम्मीद में बाजार में जोरदार तेजी का माहौल मुमकिन नजर आ रहा है। साथ ही लिक्विडिटी के चलते भी बाजार में ज्यादा करेक्शन आने की उम्मीद नहीं है। घरेलू निवेशकों का भारतीय बाजारों को लेकर सेंटिमेंट काफी मजबूत बन चुका है।


उदयन मुखर्जी के मुताबिक बाजार में गिरावट आती भी है तो वो लंबी अवधि तक नहीं टिक पाएगी। बाजार में 400-500 अंकों का करेक्शन दिख सकता है, लेकिन बाजार इस करेक्शन को 1-1.5 हफ्तों की अवधि में फिर के रिकवर कर लेगा। लिक्विडिटी को लेकर जो माहौल बना है उसको देखते हुए बाजार में 2-3 महीनों तक करेक्शन का दौर चलेगा, ऐसा बहुत कम ही संभव नजर आ रहा है।


उदयन मुखर्जी ने कहा कि अब तक आए पीएसयू बैंकों के चौथी तिमाही के नतीजे खराब ही रहे हैं, ऐसे में साफ जाहिर होता है कि सरकारी बैंकों के लिए अभी माहौल बेहतर नहीं हुआ है। पीएसयू बैंकों के लिए चुनौतियां अभी भी बनी हुई हैं। वहीं प्राइवेट बैंकों के लिए कोई बड़ी दिक्कत नजर नहीं आ रही है। खासकर यस बैंक में कोई बड़ा करेक्शन मुमकिन नहीं लग रहा है। आरबीआई की रिपोर्ट के बाद थोड़ी गिरावट दिख सकती है, लेकिन इस गिरावट से यस बैंक के रिकवरी होने की पूरी उम्मीद है।


उदयन मुखर्जी के मुताबिक 3-4 सालों की अवधि में मेटल सेक्टर में काफी बुरा दौर देखने को मिला है, लेकिन अब इस सेक्टर में रिकवरी देखने को मिल रही है। लिहाजा मौजूदा स्तरों पर मेटल शेयरों में बिकवाली की सलाह नहीं होगी, लेकिन इसके साथ ही मेटल शेयरों के अच्छे नतीजों पर बड़ी तेजी की उम्मीद भी नहीं है। दरअसल मेटल शेयरों में काफी तेजी पहले ही आ चुकी है।


उदयन मुखर्जी ने ग्लेनमार्क और ल्यूपिन जैसे शेयरों से दूर रहने की सलाह दी है। फार्मा कंपनियों के लिए कीमतें घटने की चिंता गंभीर है। वहीं उदयन मुखर्जी का कहना है कि आईटी सेक्टर भी दायरे में रहेगा, ऐसे में इस सेक्टर से भी दूर रहने की सलाह होगी। आईटी कंपनियों का कॉन्फिडेंस नीचे आ गया है, यही वजह है कि अभी सतर्क रहने की जरूरत है।


उदयन मुखर्जी का कहना है कि इंडस्ट्रियल शेयरों में मौके नजर आ रहे हैं। एबीबी इंडिया, सीमेंस और पावर ग्रिड जैसी कंपनियों में निवेश के मौके हैं। साथ ही केईसी इंटरनेशनल, टेक्नो इलेक्ट्रिक और भारत बिजली जैसी कंपनियों के लिए अच्छे मौके बन सकते हैं। आने वाले दिनों में इन कंपनियों में अच्छी ग्रोथ की उम्मीद है।