Moneycontrol » समाचार » चर्चित स्टॉक खबरें

किन शेयरों पर करें फोकस, क्या है खबर

प्रकाशित Thu, 15, 2018 पर 07:55  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

शेयरों की हर हलचल पर पैनी नजर रखकर अपने निवेश को सुरक्षित जरूर किया जा सकता है। यहां हम बता रहे हैं ऐसे शेयर जो रहेंगे आज खबरों में और जिन पर होगी बाजार की नजर।


जी लर्न / एमटी एडुकेयर


जी लर्न, एमटी एडुकेयर में 1.86 करोड़ शेयर खरीदेगी। जी लर्न ओपन ऑफर में एमटी एडुकेयर का 26 फीसदी हिस्सा खरीदेगी। जी लर्न, एमटी एडुकेयर में 72.76 रुपये प्रति शेयर के भाव पर 26 फीसदी हिस्सा खरीदेगी। जी लर्न कैश में एमटी एडुकेयर का हिस्सा खरीदेगी। दरअसल एमटी एडुकेयर की ओर से जी लर्न को 3.19 करोड़ प्रेफरेंशियल शेयर जारी होने से ओपन ऑफर ट्रिगर हुआ है। प्रेफरेंशियल इश्यू के बाद जी लर्न की एमटी एडुकेयर में 44.53 फीसदी हिस्सेदारी हो जाएगी।


जेट एयरवेज


वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में जेट एयरवेज का मुनाफा 46 फीसदी घटकर 165 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में जेट एयरवेज का मुनाफा 305 करोड़ रुपये रहा था। वहीं, वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में जेट एयरवेज की आय 10 फीसदी बढ़कर 6,086 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में जेट एयरवेज की आय 5,511 करोड़ रुपये रही थी।


साल दर साल आधार पर अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में जेट एयरवेज का एबिटडा 580 करोड़ रुपये से बढ़कर 584 करोड़ रुपये रहा है। सालाना आधार पर तीसरी तिमाही में जेट एयरवेज का एबिटडा मार्जिन 10.5 फीसदी से घटकर 9.5 फीसदी रहा है।


नेस्ले इंडिया


साल 2017 की चौथी तिमाही में नेस्ले इंडिया का मुनाफा 59.6 फीसदी बढ़कर 311.8 करोड़ रुपये रहा है। साल 2016 की चौथी तिमाही में नेस्ले इंडिया को 195.4 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। वहीं, साल 2017 की चौथी तिमाही में नेस्ले इंडिया की आय 14.8 फीसदी बढ़कर 2,601.5 करोड़ रुपये रही है। साल 2016 की चौथी तिमाही में नेस्ले इंडिया की आय 2,266.2 करोड़ रुपये की आय हुई थी।


सालाना आधार पर चौथी तिमाही में नेस्ले इंडिया का एबिटडा 388.7  करोड़ रुपये से बढ़कर 533.5 करोड़ रुपये रहा है। साल दर साल आधार पर अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में नेस्ले इंडिया का एबिटडा मार्जिन 17.1 फीसदी से बढ़कर 20.5 फीसदी रहा है।


अदानी पोर्ट्स / गुजरात पीपावाव


विदेशी शिपिंग कंपनियों को भारत से काम करने की मंजूरी दी जा सकती है। सरकार विदेशी जहाजों को घरेलू जल सीमा में काम की मंजूरी दे सकती है। सरकार के इस कदम से लॉजिस्टिक की लागत, पोर्ट की क्षमता बढ़ाने में मदद मिलेगी। गौरतलब है कि अभी विदेशी जहाज के लिए सरकार के कानून कड़े हैं। अभी विदेशी के मुकाबले भारतीय जहाज को प्राथमिकता दी जाती है।


टोरेंट पावर


टोरेंट पावर को सोलर एनर्जी कॉर्प से कॉन्ट्रैक्ट मिला है। टोरेंट पावर गुजरात में 499 मेगावॉट का विंड पावर प्रोजेक्ट लगाएगी।


पीवीआर


पीवीआर ने हैदराबाद में 8 स्क्रीन वाला मल्टीप्लेक्स शुरू किया है। अब कंपनी के पास 51 शहरों में स्क्रीन की संख्या 625 पर पहुंच गई है।