Moneycontrol » समाचार » बीमा

ट्रैवल इंश्योरेंस की बढ़ी मांग, कैसे मिलेगा फायदा

प्रकाशित Sat, 28, 2017 पर 15:42  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी पर जहां हम आपको पैसे बचाने और निवेश की सलाह देते हैं। वहीं, अपनी गाढी कमाई का लुत्फ आप कैसे उठा सकते हैं, इसके भी नुस्खे हम आपको देते हैं। दिसंबर दूर नही है, और एसे में अगर आपने छुट्टियों की प्लानिंग करनी शुरू कर दी है, तो हम आपको ट्रैवल इंश्योरेंस से जुडी तमाम बारीकियों से रूबरू करवाएंगें, साथ ही प्लास्टिक मनी, यानि क्रेडिट कार्ड के बढते इस्तेमाल की वजह से, कैसे अपने पैसे को सूरक्षित रखना चाहिए, क्या कोई कार्ड इंश्योरेंस का विकल्प मौजूद है बाजार में, आज हमारा फोकस इसी पर होगा। मैं हूं कविता थपलियाल, और मेरे साथ आज हैं फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पंड्या। 


विदेश यात्रा में ट्रैवल इंश्योरेंस लेना जरुरी होता है। विदेश में मेडिकल खर्च जेब पर भारी पड़ता है। टिकट बुकिंग के वक्त एयरलाइस या एजेंट ट्रैवल इंश्योरेंस का विकल्प देते हैं। अगर आपके पास एऩ्युअल ट्रैवल पॉलिसी है तो अलग से ट्रैवल प्लान खरीदने की जरूरत नहीं होती है। डेस्टिनेशन, यात्रा के दिन पर प्रीमियम की रकम निर्भर करता है। ट्रैवल इंश्योरेंस में फैमिली/ इंटरनेश्नल ट्रैवल इंश्योरेंस लें। 60 तक की उम्र के दो लोगों को कवर देता है। साथ ही 21 साल की उम्र के दो बच्चों को कवर मिलता है। फ्लोटर बैनिफिट प्लान का हिस्सा भी बने।


अर्णव पंड्या का कहना है कि ट्रैवल इंश्योरेंस कवर लेना जरुरी है। इसमें आप एक्सीडेंट, हाइजैकिंग, बीमारी का खर्च, सामान की गुमशुदगी और चोरी, पासपोर्ट की चोरी, फ्लाइट में देरी और टिकट कैंसिलेशन शामिल करें।


उन्होंने आगे कहा कि विदेश पढ़ने जा रहे 16 से 40 साल तक के लोगों का कवर ट्रैवल इंश्योरेंस के तहत लिया जाता है। विदेश में पढ़ रहे भारतीयों के लिए कवर में इलीजिलिब्टी दी जाती है। साथ ही 85 साल तक के बुज़ुर्गों के लिए कवर प्लान लें। कोई मेडिकल टेस्ट की जरूरत नहीं है। शैंगेन ट्रैवल इंश्योरेंस में 70 साल तक के शख्स और 90 दिन के नवजात का कवर मिलता है। यात्रा का मकसद व्यवसाय या पर्यटन है।