Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बीमा

इंश्योरेंस के बदले नियम, आपकी पॉलिसी पर क्या होगा असर

प्रकाशित Wed, 10, 2016 पर 15:43  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी आज हमारा फोकस होगा इंश्योरेंस पॉलिसी पर।   आईआईडीआई की नई हेल्थ इंश्योरेंस की गाइड लाइन क्या है। अगर आपने लाइफ इंश्योरेंस से एक इंश्योरेंस पॉलिसी ली है तो क्या अब आपको अपनी हेल्थ इश्योरेंस पॉलिसी को बदल देना चाहिए। साथ ही जानेंगे कि हेल्थ इंश्योरेंस के बदले नियम, आपकी पॉलिसी पर क्या असर होगा। और समझगें ट्रैवल हेल्थ इंश्योरेंस की क्या बारीकियां है। इन सभी मुद्दों से जुड़े तमात सवालों के जवाब देने के लिए आज हमारे साथ माईइंश्योरेंसक्लब डॉटकॉम के को फाउंडर और वाइस प्रेसिडेंट मनोज आसवानी।


मनोज आसवानी के मुताबिक 2 तरह के इंश्योरेंस होते है पहला हर्जाना बीमा जिसे मेडिक्लेम, पर्सनल एक्सिडेंट पॉलिसी कहा जाता है। तो वहीं दूसरी पॉलिसी एकमुश्त फायदे वाला बीमा जो क्रिटिकल इलनेस प्लान करते है। हर्जाना बीमा पॉलिसी के तहत आपको इलाज के खर्च का भुगतान किया जाता है। इलाज के बाद पैसे का भुगतान करते है। इस पॉलिसी के तहत जितना खर्च हुआ है उतना ही पैसा मिलेगा। वहीं एकमुश्त फायदे वाला बीमा के तहत बीमारी का पता चलने पर पैसे का एकमुश्त भुगतान करती है। खर्च कितना भी हो, बीमा का पूरा पैसा मिलता है।


मनोज आसवानी के अनुसार हेल्थ इंश्योरेंस के नए नियम लागू किए गए है जिनमें पहले सिर्फ जनरल इंश्योरेंस कंपनी ही हेल्थ इंश्योरेंस देती थीं। बाद में लाइफ इंश्योरेंस कंपनी भी हेल्थ इंश्योरेंस देने लगी थीं। लेकिन अब लाइफ इंश्योरेंस कंपनियां हर्जाना बीमा नहीं बेच पाएंगी। ये कंपनियां सिर्फ एकमुश्त फायदे वाले बीमा बेच पाएंगी।


इस पॉलिसी के तहत एलआईसी, एचडीएफसी लाइफ,आईसीआईसीआई प्रुडेंशियल कंपनियों के प्लान बंद होंगे। उसके बदले हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां, न्यू इंडिया इंश्योरेंस, ओरिएंटल इंश्योरेंस, एचडीएफसी इर्गो जनरल इंश्योरेंस, फ्यूचर जनरली जनरल इंश्योरेंस, अपोलो म्युनिख हेल्थ इंश्योरेंस, स्टार हेल्थ इंश्योरेंस में इंश्योरेंस ले सकते है।


सवालः एलआईसी की पॉलिसी की 4-5 किश्त भरी हैं, पॉलिसी में निवेश बंद करना है, पैडअप विकल्प अच्छा है या पॉलिसी सरेंडर कर दें।


मनोज आसवानीः पैसे की बहुत जरूरत है तो पॉलिसी सरेंडर कर सकते है। अगर काफी प्रीमियम भर चुकी हैं तो पैडअप विकल्प चुनें। और इस बात का ध्यान रखें कि पॉलिसी पैडअप कराने से नुकसान नहीं होता है। पैडअप विकल्प चुनने से पॉलिसी के कुछ लाभ मिलते रहते हैं। 15 साल की पॉलिसी में 4 साल का प्रीमियम भरा है पैडअप ना कराएं।


सवालः स्पेन की यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया है, ट्रैवल हेल्थ इंश्योरेंस लेना है, कौन सी पॉलिसी लेना चाहिए।


मनोज आसवानीः आईआरसीटीसी के जरिए टिकट बुक कराने पर ट्रैवल इंश्योरेंस मिलेगा। आपके लिए ट्रैवल इंश्योरेंस में टाटा एआईजी जनरल इंश्योरेंस, रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस, और बजाज अलियांज जनरल इंश्योरेंस में पॉलिसी ले सकते है।


वीडियो देखें