Moneycontrol » समाचार » बीमा

इंश्योरेंस स्पेशलः इंश्योरेंस को ना समझें निवेश

प्रकाशित Fri, 25, 2016 पर 14:17  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी के जरिए आपको इंश्योरेंस का सही मकसद और मतलब समझाने की कोशिश की जा रही है। बीमा में निवेश करने और सुरक्षा हेतु लेने में क्या अंतर है, हम आपको इन्हीं बारीकियों से रूबरू कराएंगे। साथ ही जानेंगे कि कौन सा लाइफ  इंश्योरेंस आपके लिए सही होगा और टैक्स छूट के लिए इंश्योरेंस कितना सही होता है। इन सभी सवालों के जवाब देने के लिए हमारे साथ है एटिका वेल्थ मैनेजमेंट के एमडी और सीईओ गजेंद्र कोठारी।


गजेंद्र कोठारी का कहना है कि 2 तरह के इंश्योरेंस होते है। पहला जनरल इंश्योरेंस और दूसरा लाइफ इंश्योरेंस। हेल्थ और लाइफ इंश्योरेंस जरूरी होता है। जनरल इंश्योरेंस में आपको हेल्थ, क्रिटिकल इलनेस, पर्सनल एक्सिडेंट कवर, ट्रैवल इंश्योरेंस, मोटर इंश्योरेंस, होल लाइफ इंश्योरेंस, मरीन इंश्योरेंस को कवर करता है।
वहीं लाइफ इंश्योरेंस में टर्म प्लान, एंडाओमेंट, मनी बैक, होल लाइफ, यूलिप को कवर करता है।


गजेंद्र कोठारी के मुताबिक हेल्थ इंश्योरेंस, व्यक्तिगत इंश्योरेंस और फ्लोटर पॉलिसी खरीदने का ऑप्शन है। फ्लोटर पॉलिसी परिवार के लिए खरीद सकते हैं। फ्लोटर पॉलिसी में प्रीमियम कम होता है और यह एक बेहतर विकल्प है। कई हेल्थ प्लान 50 फीसदी तक नो क्लेम बोनस देते हैं। ज्यादा कैपिंग वाली पॉलिसी ना खरीदें।


लाइफ इंश्योरेंस के तहत ज्यादातर पॉलिसी पारंपरिक और युलिप वाली होती है। यूलिप निवेश और इंश्योरेंस का मिला-जुला प्रोडक्ट है। जो इंश्योरेंस में कवर कम, प्रीमियम ज्यादा मिलता है। यूएलआईपी में शुरुआती प्रीमियम चार्ज ज्यादा और रिटर्न कम होता है। एंडाओमेंट, मनी बैक जैसी पॉलिसी में निवेश की जानकारी नहीं होती है। इंश्योरेंस में टर्म प्लान सबसे बेहतर विकल्प होता है। टर्म प्लान को ऑनलाइन खरीदना फायदेमंद है।


गजेंद्र कोठारी के मुताबिक होल लाइफ पॉलिसी के तहत मौत या मैच्योरिटी पर पैसे मिलते हैं। मैच्योरिटी 100 की उम्र में होती है इसमें जीवन भर प्रीमियम भरना पड़ता है। सबसे ज्यादा कमीशन वाली पॉलिसी होती है होल लाइफ पॉलिसी। इसमें रिटर्न 4-6 फीसदी तक मिलता है। एलआईसी जीवन आनंद, जीवन तरंग इस पॉलिसी में आते है। एंडाओमेंट पॉलिसी जोखिम के लिए कवर और निवेश का मिला-जुला रुप है।


गजेंद्र कोठारी का कहना है कि पेंशन प्लान के तहत सिंगल प्रीमियम भरना होता है। यह प्लान रिटायरमेंट के लिए होता है। वहीं यूलिप शेयर बाजार से जुड़े इंश्योरेंस प्लान है


सवालः हेल्थ इंश्योरेंस का कवर 10 लाख रुपये तक बढ़ाना है, अलग से या साथ में पॉलिसी लेने पर प्रीमियम कितना भरना होगा? क्या प्रीमियम भरते समय परिवार के लोगों को टैक्स पर छूट मिलेगी? दूसरी इंश्योरेंस कंपनी पर पॉलिसी पोर्ट करनी है, किस कंपनी से लें?


गजेंद्र कोठारीः अगर परिवार में सबके पास अलग पॉलिसी हैं तो सभी टैक्स पर छूट ले सकते हैं। अपनी पॉलिसी का कवर 5 लाख से 10 लाख रुपये बढ़ा सकते हैं। मेडिकल चेकअप की रिपोर्ट के बाद इंश्योरेंस कंपनी कवर बढ़ा सकती है। वहीं सरकारी इंश्योरेंस कंपनियों में कैपिंग चार्ज होता है। लेकिन प्राइवेट कंपनियों में कैपिंग चार्ज नहीं लगता है। रिन्युअल की तारीख से 45-50 दिन पहले दूसरी इंश्योरेंस कंपनी पर पोर्ट करें। आप मैक्स बुपा हेल्थ कंपैनियन, अपोलो म्युनिक ऑप्टिमा रिस्टोर और आईसीआईसीआई लोंबार्ड आई-हेल्थ प्लान ले सकते है।