Moneycontrol » समाचार » बीमा

मेडिकल खर्च पड़ा जेब पर भारी, ये प्लान देगा छुटकारा!

प्रकाशित Sat, 25, 2017 पर 15:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बढते मेडिकल इलाज के खर्च एक चिंता की बात है छोटी हो या बडी, किसी भी बीमारी के इलाज के लिए आपको जेब ज्यादा ढीली करनी पडती है। बीमारियों के तो बचा नही जा सकता, लेकिन क्या इसके खर्च से आप निपट सकते हैं। योर मनी इंश्योरेस स्पेशल में बात करने के लिए मौजूद है 5फाइनेंस डॉटकॉम की इंश्योरेंस हेड मंजू ढाके।


मंजू ढाके का कहना है कि मौजूदा समय में जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां होने का जोखिम बढ़ा है और इससे फाइनेंशियल सेहत पर भी असर पड़ता है। जिसके लिए हेल्थ इंश्योरेंस के साथ फिक्स्ड बेनेफिट हेल्थ प्लान लेना जरूरी है क्योंकि इसमें इलाज के खर्चों के लिए कैश मिलता है।


उन्होंने आगे बताया कि फिक्स्ड हेल्थ प्लान से बीमारी के इलाज के लिए पॉलिसीधारक को एकमुश्त पैसा मिलता है। हेल्थ कवर बढ़ाने के लिए फिक्स्ड बेनेफिट हेल्थ प्लान सही है। पहले टेस्ट पर ही एकमुश्त पैसा मिलेगा। इसलिए पर्याप्त कवर न होने पर सिर्फ सर्जरी पर एकमुश्त पैसा मिलेगा। हालांकि अस्पताल में भर्ती होने से पहले का खर्च का कवर नहीं होगा, लेकिन पॉलिसी के पैसों को इलाज पर खर्च कर सकते हैं।


अपोलो म्युनिख हेल्थ इंश्योरेंस, रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस, एचडीएफसी एर्गो जनरल इंश्योरेंसड, बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस और सिग्ना टीटीके हेल्थ इंश्योरेंस से फिक्स्ड बेनेफिट हेल्थ प्लान खरीदें।


फिक्स्ड बेनेफिट इंश्योरेंस प्लान का प्रीमियम उम्र पर निर्भर करता है। ज्यादा उम्र में प्लान लेने पर ज्यादा प्रीमियम होगा। इंश्योरेंस पोर्टफोलियो में टर्म इंश्योरेंस - जीवन सुरक्षा के लिए लें।  रेगुलर हेल्थ इंश्योरेंस - हेल्थ सुरक्षा, क्रिटिकल इलनेस - जीवनशैली वाली बीमारियों से सुरक्षा, पर्सनल एक्सिडेंट - एक्सिडेंट से सुरक्षा और होम इंश्योरेंस - घर की चोरी और आग से सुरक्षा करने के लिए खरीदें।