Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनीः ई-इंश्योरेंस खाता खोलने के आसान टिप्स

प्रकाशित Tue, 27, 2016 पर 19:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आजकल सब कुछ ऑनलाइन हो रहा है, तो हमारी इंश्योरेंस पॉलिसी कैसे छूट सकती हैं। आईआरडीए ने 1 अक्टूबर से, हर नई इंश्योरेंस पॉलिसी को ई-इंश्योरेंस में करवाना अनिवार्य करवा दिया है। यानी आपको अब इंश्योरेंस भी डीमैट फॉर्म में मिल सकता है। योर मनी पर आज हमारा फोकस सिर्फ इंश्योरेंस पर है, और सलाह दे रही हैं एलजे बिजनेस स्कूल की सीईओ, पूनम रुंगटा


पूनम रुंगटा के मुताबिक 1 अक्टूबर के बाद इंश्योरेंस लेने पर ई-इंश्योरेंस अकाउंट का होना जरूरी होगा और सभी तरह की इंश्योरेंस पॉलिसी ऑनलाइन होगी। इंश्योरेंस को अब करें डीमैट फॉर्म में लिया जा सकेगा और ई-इंश्योरेंस खुलवाने में कोई खर्च नहीं आएगा। 5 रिपॉजिटरीज में से एक के साथ ई-इंश्योरेंस खाता खुलवा सकते हैं।


सीएएमएस रिपॉजिटरी सर्विसेज, कार्वी इंश्योरेंस रिपॉजिटरी, सेंट्रल इंश्योरेंस रिपॉजिटरी, एनएसडीएल डाटाबेस मैनेजमेंट और एसएचसीआईएल प्रोजेक्ट्स आईआरडीए से मान्याता प्राप्त रिपॉजिटरी हैं। पूनम रुंगटा ने बताया कि इंश्योरेंस कंपनी का अगर रिपॉजिटरी के साथ करार हो, तो उससे भी खाता खुलवाया जा सकता है। ई-इंश्योरेंस खाताधारक की केवाईसी भी होगी और केवाईसी एक ही बार कराना होगा। ई-इंश्योरेंस खाता खुलवाने के लिए आधार कार्ड या पैन कार्ड जरूरी होगा। अड्रेस प्रूफ के लिए एग्रीमेंट, आधार लेटर, राशन कार्ड और ड्राइविंग लाइसेंस मान्य होंगे।


पूनम रुंगटा का कहना है कि रिपॉजिटरी की वेबसाइट पर जाकर भी दस्तावेजों की सूची देखी जा सकती है। ई-इंश्योरेंस खाता दस्तावेज जमा करने के बाद 7 दिनों में खुलेगा और खाता खुलने के बाद वेलकम किट दिया जाता है। वेलकम किट में लॉगइन आईडी और पासवर्ड भेजा जाता है। आईडी, पासवर्ड की मदद से आप ई-इंश्योरेंस खाता ऑपरेट कर सकते हैं।


इंश्योरेंस प्रीमियम भी ई-इंश्योरेंस खाते से भरा जा सकता है। ई-इंश्योरेंस फिलहाल सिर्फ नई पॉलिसी के लिए होगा, लेकिन पुरानी पॉलिसी को भी डीमैट किया जा सकता है। पुरानी पॉलिसी को ई-इंश्योरेंस अकाउंट से जोड़ने के लिए रिपॉजिटरी या इंश्योरेंस कंपनी से बात करें। ई-इंश्योरेंस खाता नंबर इंश्योरेंस कंपनी के साथ साझा करना जरूरी है।


ई-इंश्योरेंस अकाउंट कैसे खोला जाए, इस पर पूनम रुंगटा ने बताया कि इंश्योरेंस रिपॉजिटरी को चुनें और वेबसाइट या रिपॉजिटरी से अकाउंट खोलने का फॉर्म डाउनलोड करें। केवाईसी के पेपर्स के साथ सारे दस्तावेजों को इंश्योरेंस कंपनी में जमा कर दें। इंश्योरेंस कंपनी दस्तावेजों की जांच करेगी और अकाउंट खोलने का फॉर्म इंश्योरेंस रिपॉजिटरी को भेजा जाएगा। रिपॉजिटरी अकाउंट बनाकर यूजर आईडी और पासवर्ड एसएमएस या ईमेल के जरिए भेजेगा। रिपॉजिटरी वेबसाइट पर लॉग-इन करके पॉलिसी की जानकारी ले सकते हैं। रिपॉजिटरी में जरूरी फॉर्म जमा करके मौजूदा पॉलिसी भी ई-इंश्योरेंस अकाउंट से जोड़ सकते हैं।