Moneycontrol » समाचार » बीमा

किडनी ट्रांसप्लांट के बाद क्या मिलेगी हेल्थ पॉलिसी!

प्रकाशित Wed, 21, 2016 पर 14:41  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इस बार हमारा फोकस है आपके इंश्योरेंस पर। आपके सवालों का जवाब दे रहे हैं ओए पैसे के फाउंडर, उदय धूत।


सवाल: 47 साल के सुशील खेमका ने हाल ही में किडनी ट्रांसप्लांट करवाई है, और वो जानना चाहते हैं कि क्या अब उनको हेल्थ प्लान मिल सकता है।


जवाब : उदय धूत का कहना है कि सुशील खेमका की सेहत को देखते हुए हेल्थ कवर मिलना मुश्किल लग रहा है। दरअसल किसी भी सर्जरी के बाद अगर हेल्थ इंश्योरेंस लेने जाएंगे, तो कोई भी इंश्योरेंस कंपनी हेल्थ कवर देने से जरूर हिचकिचाएगी। इस मामले में सर्जरी होने के 3-6 महीने बाद अगर इंश्योरेंस लेने वाले की स्थिति सामान्य रहती है, तो फिर हेल्थ कवर मिलने की गुंजाइश बढ़ सकती है। लिहाजा 3-6 महीने बीत जाने के बाद ही हेल्थ कवर के लिए अर्जी दें। सबसे पहले पब्लिक सेक्टर की इंश्योरेंस कंपनियों में हेल्थ कवर के लिए कोशिश करें, और यहां बात ना बनें तो फिर निजी इंश्योरेंस कंपनियों के पास जाएं। इस मामले में ज्यादा प्रीमियम के साथ हेल्थ कवर मिलने की उम्मीद है।


सवाल : एजेंट के बोलने पर 5 लाख रुपये का अपोलो म्यूनिख का मेडिकल कवर लिया है और, एलएंडटी का 10 लाख का टॉप भी है। खरीदी हुई टॉप अप पॉलिसियों के बारे में जानना है, सलाह दें।


जवाब : उदय धूत ने बताया कि टॉप अप पॉलिसी के तहत कम प्रीमियम में बेहतर मेडिकल कवर मिलता है। लेकिन ध्यान दें कि टॉप अप पॉलिसी में डिडेक्टेबल एक अहम मुद्दा होता है। डिटेक्टेबल सम एश्योर्ड के तहत एक तय रकम तक मुआवजे नहीं देने का क्लॉज होता है, ऐसे में मान लीजिए कि अगर आपकी पॉलिसी 10 लाख रुपये की है और डिडेक्टेबल सम एश्योर्ड 3 लाख रुपये का है। फिर 1 साल तक आपको टॉप अप पॉलिसी से 3 लाख रुपये तक के इलाज का भुगतान नहीं मिलेगा। 3 लाख रुपये का भुगतान बेस पॉलिसी से ही मिलेगा, और 3 लाख रुपये से ऊपर खर्च होने वाली रकम का भुगतान टॉप अप पॉलिसी से हो सकेगा।