Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनी: रेल यात्रियों को इंश्योरेंस, क्या है खास?

प्रकाशित Thu, 30, 2016 पर 11:45  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इंश्योरेंस पर आप रिटर्न के लिए निर्भर करेंगें तो शायद आपकी सेहत खराब हो सकती है। ऐसा हम इस लिए कह रहे हैं क्योंकि इंश्योरेंस कमाई के लिए बल्कि नहीं आपके जीवन की सुरक्षा के लिए खरीदा जाता है। ये एक निवेश अगर है भी तो आपके अपनो की बेहतर जिंदगी के लिए। इस शो में आज खास फोकस होगा इंश्योरेंस पर। यहां आपके इंश्योरेंस से जुड़े सवालों के जवाब दे रही हैं एल जे बिजनेस स्कूल की पूनम रूंगटा


लेकिन हम सबसे पहले बात करेंगे एक खास खबर की। हवाई यात्रा की तर्ज़ पर अब रेलवे भी यात्रियों को इंश्योरेंस की सुविधा देने जा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक रेलवे अपने यात्रियों को 10 रुपये में 10 लाख रुपये की बीमा सुविधा देने की योजना बना रही है।


रेल सफर के दौरान अगर आप को अपनी और अपने सामान की चिंता सताती है तो जल्द ही आपको थोड़ी राहत मिल सकती है। रेलवे ने यात्री बीमा योजना के सभी नियमों को तय कर दिया है। रेलयात्रियों को 10 लाख रुपये की बीमा सुविधा पाने के लिए महज 10-20 रुपये के प्रीमियम का भुगतान करना होगा।


सूत्रों के मुताबिक नई बीमा योजना के तहत अगर कोई व्यक्ति प्रीमियम अदा कर बीमा कवर का ऑप्शन अपनाता है तो रेल दुर्घटना में मौत होने पर परिवार वालों को 10 लाख रूपये, स्थायी रूप से विकलांग हुए यात्री को 7.5 लाख रुपये और घायलों को 5 लाख रुपये तक दिए जाएंगे। अब तक रेलवे अपने सुरक्षा नियमों के तहत दुर्घटना में निधन होने पर 4 लाख रुपये का बीमा देती रही है। लेकिन ये अतिरिक्त बीमा होगा और इसके लिए ई-टिकट बुकिंग करने के दौरान ही यात्रियों को बीमा विकल्प चुनना होगा।


सूत्रों के मुताबिक यह योजना अगस्त महीने से शुरू की जायेगी। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरुआत में यह सुविधा ई-टिकट के यात्रियों को मिलेगी। पायलट प्रोजेक्ट के पूरा होने के एक साल बाद इसे काउंटर से आरक्षित टिकट बुक कराने वाले यात्रियों के लिए भी शुरू किया जाएगा।


रेल यात्रियों को बीमा कवर देने के लिए इंश्योरेंस कंपनियों की चयन प्रक्रिया आखिरी चरण में है। रेगुलेटरी बॉडी आईआरडीए के तेहत रजिस्टर्ड ओरिएंटल इंश्योरेंस, न्यू इंडिया इंश्योरेंस समेत 20 कंपनियां इस रेस में शामिल हैं। लेकिन इन में से उन 3 कंपनियों को ही चुना जाएगा जिनका प्रीमियम सबसे कम होगा। इन तीनों कंपनियों को समान रूप से बीमा अधिकार दिया जाएगा।


पूनम रूंगटा का कहना है कि हर रोज लगभग 2.1 करोड़ लोग देश भर में रलवे से यात्रा करते हैं। जिसमें से करीब 52 फीसदी लोग अपनी टिकट ऑनलाइन बुक करते हैं। जो भी रेल दुर्घटनाएं होती हैं उसके लिए रेलवे को मुआवजा तो देना ही होता है। रेलवे की इस योजना के तहत बीमा कंपनियों के सहयोग से एक बड़ी धनराशि इकठ्ठी की जा सकती है, जो रेलवे, इंश्योरेंस कंपनियों और यात्रियों सभी लिए काफी अच्छी बात हो सकती है।


वीडियो देखें