सरकारी कंपनियों का ईटीएफ, कैसे करें निवेश -
Moneycontrol » समाचार » निवेश

सरकारी कंपनियों का ईटीएफ, कैसे करें निवेश

प्रकाशित Wed, 18, 2017 पर 13:34  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सरकारी कंपनियों का ईटीएफ आज से रिटेल निवेशकों के लिए भी खुल गया है और 20 जनवरी तक इसमें आप निवेश कर सकते हैं। लेकिन इसमें निवेश का तरीका क्या है और किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है आइए जानते हैं।


निवेशक ध्यान रखें कि सीपीएसई ईटीएफ में निवेश के लिए डीमैट अकाउंट होना जरूरी है। इसमें रिटेल निवेश की सीमा 5,000 रुपये से 2 लाख  रुपये है। इस निवेश के लिए चेक, डेबिट कार्ड, ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए पेमेंट करें और बीएसई/एनएसई के ब्रोकर्स के जरिए ही निवेश करें। इस ईटीएफ में निवेश के लिए सीपीएसई ईटीएफ एफएफओ के नाम से ही चेक बनाएं। फॉर्म के साथ डीमैट प्रूफ और चेक होना जरूरी है। साथ ही अपडेटेड केवाईसी और फटका डिक्लेरेशन होना जरूरी है। निवेश के लिए आवेदन फार्म reliancemutual.com से फॉर्म डाउनलोड करें।


सीपीएसई ईटीएफ में निवेश के लिए अपना फार्म रिलायंस म्युचुअल फंड के ऑफिस में, कार्वी के ऑफिस में, एएमएफआई रजिस्टर्ड बीएसई/एनएसई मेंबर के पास या एएमएफआई  रजिस्टर्ड फाइनेंशियल एडवाइजर्स के पास जमा करें। सीपीएसई ईटीएफ में ऑनलाइन निवेश के लिए www.reliancemutual.com पर फॉर्म भरें। अगर आप रिलायंस एमएफ की किसी स्कीम में पहले से निवेशित हैं तो आप मौजूदा स्कीम से सीपीएसई ईटीएफ में स्विच कर सकते हैं।


इसके अलावा आप एनएसई म्युचुअल फंड सर्विस सिस्टम (MFSS), एनएसई ई-आईपीओ प्लैटफॉर्म पर एनएसई के किसी ब्रोकर के जरिए, बीएसई स्टाल एमएफ- बीएसई ब्रोकर के जरिए, बीएसई ई-आईपीओ प्लैटफॉर्म पर-बीएसई ब्रोकर के जरिए या फिर एएमएफआई के प्लैटफॉर्म पर एमएफ यूटिलिटी के जरिए भी सीपीएसई ईटीएफ में ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं। गौरतलब है कि सीपीएसई ईटीएफ में निवेश के लिए आवेदन की तारीख 20 जनवरी शाम 5 बजे तक है। 4 फरवरी को अलॉटमेंट और 10 फरवरी को लिस्टिंग होगी। इश्यू बंद होने के 15 दिनों के अंदर रिफंड होगा।