Moneycontrol » समाचार » निवेश

एसआईपी के जरिए निवेश होगा फायदेमंद

प्रकाशित Sat, 08, 2017 पर 15:56  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार के ऊंचे रिटर्न की चाहत रखते है, लेकिन बाजार के उतार-चढ़ाव से डर लगता है। डरते हैं कि कहीं रकम डूब ना जाएं। ऐसे लोगों के लिए सिस्टमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी बाजार में पैसे लगाने का सबसे अच्छा तरीका है। एसआईपी के तहत हर महीने एक तय रकम म्युचुअल फंड में निवेश की जाती है।


ये है तो अच्छा तरीका लेकिन कई बार निवेशक इसे जारी नहीं रखते, बीच में ही बंद कर देते हैं। इसके क्या फायदे और क्या नुकसान हैं, इसी पर योर मनी में हम चर्चा करेंगे और इसमें हमारा साथ देंगे रूंगटा सिक्योरिटीज के डायरेक्टर और सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर हर्षवर्धन रूंगटा।


रूंगटा सिक्योरिटीज के डायरेक्टर और सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर हर्षवर्धन रूंगटा का कहना है कि एसआईपी का मतलब सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान है। एसआईपी नियमित निवेश का जरिया है और इसके जरिए आप कम से कम 100 रुपये की एसआईपी कर सकते हैं। एसआईपी में निवेश की कोई ऊपरी सीमा नहीं है। आप कम से कम 500 से 1000 का निवेश कर सकते हैं। फंड एसआईपी के पैसे बाजार में और तयशुदा थीम में निवेश करता है। इंडेक्स फंड, लार्जकैप फंड, मिड और स्मॉलकैप फंड ये इक्विटी फंड के प्रकार है।


हर्षवर्धन रूंगटा के मुताबिक एनएवी यानी नेट एसेट वैल्यू और ये वैल्यू एनएवी के रुप में म्युचुअल फंड यूनिट की कीमत दर्शाती है। एनएवी नीचे जाने पर फंड के ज्यादा यूनिट मिलते हैं। एनएवी के नीचे जाने पर घबराने की जरूरत नहीं है।