Moneycontrol » समाचार » निवेश

पहला कदमः एक्सपर्ट्स की बजट और बचत पर राय

प्रकाशित Sat, 27, 2016 पर 13:07  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ की फाइनेंशियल लिटरेसी की मुहिम पहला कदम में आपका स्वागत है। पहला कदम के पिछले एपिसोड में हमने चर्चा शुरू की है इंश्योरेंस की। हमें उम्मीद है कि इंश्योरेंस से जुड़ी शुरुआती जानकारियां आपको मिल गई होंगी। फिर भी अगर आपके जेहन में कोई सवाल है तो आप हमें लिख सकते हैं सीएनबीसी-आवाज़ के फेसबुक पेज पर या फिर हमारी वेबसाइट pehlakadam.in पर अपना संदेश भी छोड़ सकते हैं।


इस बार पहला कदम का कारवां पहुंचा है अमृतसर। यहां बचत, निवेश और बजट पर अपनी राय देते हुए बिड़ला म्युचुअल फंड के अरुण सिंह ने कहा कि सभी के लिए बजट बनाना अनिवार्य है। बजट, आमदनी और खर्चों का ब्यौरा होता है। वहीं सरकार की आमदनी टैक्स के जरिए होती है और बजट के जरिए सरकार कल्याणकारी योजनाओं के लिए खर्च करती है। आम आदमी का बजट सरकारी बजट पर निर्भर होता है।


अरुण सिंह ने बताया कि वेतनभोगी लोगों के लिए बजट में कई प्रावधान होते हैं और एफएमसीजी सेक्टर आम आदमी के बजट पर सबसे ज्यादा प्रभाव डालता है। बजट के जरिए सरकार बताती है कि वो किस सेक्टर में खर्च करने वाली है।


वे टू वेल्थ के अमित चौधरी ने कहा कि हर महीने घर खर्च का बजट बनाना चाहिए। आमदनी और खर्चों में अंतर से ही निवेश और बचत संभव है। वहीं बजट में वित्तीय घाटा एक अहम आंकड़ा है। टैक्स बढ़ाने से वित्तीय घाटा कम करना संभव है। जीएसटी और सर्विस टैक्स से सरकार की आमदनी बढ़ेगी। रोजमर्रा के खर्चे पर सर्विस टैक्स और एक्साइज का असर दिखता है।


वीडियो देखें