Moneycontrol » समाचार » निवेश

मोदी गिफ्ट कितना बेहतर, क्या वरिष्ठ नागरिकों को होगा फायदा!

प्रकाशित Mon, 02, 2017 पर 19:35  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 31 दिसंबर को राष्ट्र के नाम संबोधन देते हुए वरिष्ठ नागरिकों की बड़ी रियायत की। उन्होंने वरिष्ठ नागरिकों को 7.5 लाख रुपये तक की राशि पर 10 साल के लिए सालाना 8 फीसदी ब्याज का तोहफा दिया। और ब्याज की ये राशि वरिष्ठ नागरिक हर महीने प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन ये फैसला वरिष्ठ नागरिकों के कितने फायदे का है? क्या 10 साल तक 7.5 लाख रुपये को लॉक करना सही है? और क्या इन्हीं रुपयों को कहीं और निवेश करने से ज्यादा फायदा कमाया जा सकता है।


दरअसल बैंकों में ज्यादा पैसा आने पर डिपॉजिट घटने का डर है, ऐसे में सीनियर सिटिजन पर असर ना पड़े इसलिए पीएम मोदी की ओर से यह एलान किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस एलान से 60 से ज्यादा उम्र के करीब 10.40 करोड़ लोगों को फायदा होगा।


यहां हम कुछ बैंकों के वरिष्ठ नागरिकों के एफडी पर नजर डालते हैं। रत्नाकर बैंक की ओर से वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5-10 साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 8.2 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की ओर से वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5-10 साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.75 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। डीसीबी बैंक की ओर से वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5-10 साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.7 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है।


आईडीएफसी बैंक की ओर से वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5-10 साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.7 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। यस बैंक की ओर से वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5-10 साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.6 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। केनरा बैंक की ओर से वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5-10 साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.5 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है।


देना बैंक की ओर से वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5-10 साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.5 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। कर्नाटक बैंक की ओर से वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5-10 साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.5 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है।