Moneycontrol » समाचार » निवेश

सुरक्षित करें बच्चों का भविष्य, जानें कहां करें निवेश!

प्रकाशित Fri, 17, 2017 पर 14:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

भला कौन शख्स नहीं चाहेगा कि उसके बच्चों की मुस्कान हमेशा बनी रहे। लेकिन, बच्चों की मुस्कान, उसकी खिलखिलाहट हमेशा बनी रहे, इसके लिए माता-पिता को शुरू से ही बेहतर फाइनेंशियल चाइल्ड प्लान बनाकर आपको चलना होगा। ऐसे में कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन सही रणनीति अपनाकर ना केवल आप नई जिम्मेदारी का बोझ हल्का कर सकते हैं बल्कि अपना करियर शुरू करने तक अपने बच्चों के लिए पर्याप्त पैसा भी जमा कर सकते हैं। तो बच्चों के सही भविष्य के लिए किस तरह से प्लानिंग करें और कैसे सोच समझकर सही निवेश करें जिसका फायदा आपके बच्चों को हों। इसी पर आज है हमारा फोकस होगा और बातचीत करने के लिए मौजूद हैं एलजे बिजनेस स्कूल की सीएफपी, सीईओ पूनम रुंगठा।


बच्चों का भविष्य सुरक्षित करने के लिए बच्चों का भविष्य पहले ध्यान में रखें क्योंकि जल्दी निवेश करने से बड़ा कॉर्पस बनेगा। बच्चों की पढ़ाई, शादी के लिए लक्ष्य तय करें। लक्ष्य महंगाई को ध्यान में रखते हुए तय करें। बच्चों के लिए निवेश रिटर्न, टैक्स बचत को ध्यान में रखकर करें।


बच्चों के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट, चाइल्ड इंश्योरेंस प्लान, म्युचुअल फंड्स और बच्चों के लिए बनाएं खास स्कीम्स में निवेश करें। ताकि भविष्य में बेहतर रिटर्न मिल सकें। निवेश के लिए जरुरी है कि बच्चों का आधार कार्ड हो, उनकी उम्र का प्रूफ हो और स्कूल जाने का प्रूफ हो।  


साथ ही बच्चों में बच्चों को पैसों की अहमियत सिखाना बेहद जरूरी है और ये काम कोई टीचर, कोई गुरू नही बल्कि खुद माता पिता ही कर सकते हैं। बच्चों को मनी मैनेजमेंट की एबीसीडी सिखाने के लिए कोई उमर नहीं होती, जितना जल्दी शुरुआत हो उतना ही अच्छा। तो आज हम सीएनबीसी आवाज़ पर देंगें आपको कुछ टिप्स जिनके जरिए आप अपने बच्चों को पैसे की अहमियत सिखा सकते हैं।


सबसे पहला गुरूमंत्र, पैसों की अहमीयत बच्चों को सिखाना बेहद जरूरी है, फिर चाहें वो चॉकलेट खरीदने के लिए ही क्यों न हों, उन्हे ये समझाना बहुत जरूरी है कि पैंसों से खरीदारी की जा सकती है और इसलिए पैसों को बडे ध्यान से खर्च करने चाहिए। उन्हे उनकी मनपसंद चीजें खरीदने के लिए भेजिए, कुछ नही तो काउंटर पर जाकर पेसे चुकाने तक का काम उन्हे पैसों की अहमियत समझाएगा


बच्चों को पैसे अहमियत समझाएं, क्योंकि आजकल बच्चों को चीजें बड़ी आसानी से मिल जाती हैं। इसलिए उन्हें पैसे की वैल्यू पता नहीं होती। ये काम आप उन्हें कोई अखबार, या इंवेस्टींग गाइड पढ़ाकर नही करा सकते। उनके साथ खेल खेल में पैंसे को शामिल करिए, मन गैम्स खेलिए, और जब बच्चे में दिलचस्पी आ जाए तब आप उन्हें स्टडी मटेरियल दिजिए।


वहीं अगर आपकी एक या दो बेटी हैं तो आप केंद्र सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ उठा सकते हैं, अगर आपकी दो बेटी हैं तो दोनों के लिए यह खाता खोल सकते हैं लेकिन दो से अधिक बेटियों के लिए नहीं खोल पाएंगे। कानूनी तौर पर बच्ची के अभिभावक या माता पिता ही खाता खुलवा सकते हैं। खाता जारी रखने के लिए कम से कम 1000 रुपये प्रति माह का निवेश करना जरूरी है। खाता खुलने के 14 साल बाद तक निवेश कर सकते हैं।


लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई यह योजना निश्चित तौर पर बच्ची के भविष्य के लिए लाभकारी तो है ही, साथ ही आपके बोझ और चिंता को भी कम करेगी। शादी के समय भी आप इसमें से रकम निकाल सकेंगे। अगर आपकी बेटी 10 साल से कम की है तो अभी पोस्ट ऑफिस और कुछ अन्य ऑथराइज्ड बैंकों जैसे एसबीआई, पीएनबी, आईसीआईसीआई बैंक में जाकर इसे खुलवा लीजिए। खाते के लिए माता-पिता का पहचान पत्र और बेटी का जन्म प्रमाण पत्र जरूरी है। जब बच्ची 21 साल की हो जाएगी, तब यह खाता मच्यौर होगा। खास बात यह है कि इसमें जमा धन पर 80 सी के तहत टैक्स छूट भी मिलती है यानि इसमें जमा 1.5 लाख रुपये तक की राशि पर आपको टैक्स छूट मिलेगी।


इसमें जमा किए धन पर 8.5 फीसदी सालाना के हिसाब से ब्याज मिलता है। नए नियम के मुताबिक, बेटी की शादी पर 100 फीसदी रकम निकाल सकते हैं। पीपीएफ की तरह ही सालाना धन जमा की सीमा डेढ़ लाख रुपए है।