Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनी में समझें एजुकेशन लोन की बारीकियां

प्रकाशित Sat, 08, 2017 पर 15:58  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बच्चे पढे लिखें, जीवन में आगे बढें, ये हर माता पिता का सपना होता है और इन सपनों को पंख दे सकते हैं एजुकेशन लोन। लेकिन इतने विकल्पों में से कैसे चुनें सही एजुकेशन लोन और इन्हें चुकाने की प्रक्रिया क्या है, योर मनी आपको इन तमाम बातों से रूबरू करवाएगा और बताएगा कि 60 की उम्र में टैक्स फ्री निवेश कहां करें। आपको ये सब बताने को लिए योर मनी में आज हमारे साथ हैं एटिका वैल्थ मैनेजमेंट के एमडी और सीएफए गजेंद्र कोठारी।


आपको बता दें कि एजुकेशन लोन के लिए केवाईसा जरूरी और इसके लिए को-एप्लिकेंट होना जरूरी होता है। एजुकेशन लोन के लिए माता-पिता, भाई-बहन या पति-पत्नी को-एप्लिकेंट बन सकते हैं। लोन लेने से पहले बैंक के मापदंड जांच लेंने चाहिए प्रतिष्ठित संस्थानों के लिए अक्सर लंबी अवधि के लोन मिलते हैं। बता दें कि शॉर्ट टर्म कोर्स लोन में कवर नहीं होते।


एजुकेशन लोन के लिए ध्यान में रखें कि 4 से 7.5 लाख तक के लोन के लिए थर्ड पार्टी गारंटर की जरूरत होती है। 4 लाख से ज्यादा के लोन के लिए बैंक को मार्जिन मनी देनी होगी। मार्जिन मनी लोन राशि का 15 फीसदी होती है। 7.5 लाख से ज्यादा के लोन के लिए प्रॉपर्टी के दस्तावेज जमा करने की जरूरत होती है। 7.5 लाख से ज्यादा के लोन के लिए कुछ गिरवी रखना जरूरी होता है।


लोन चुकाने की प्रक्रिया कोर्स खत्म होने के 6-12 महीने में शुरू होती है। लोन के लिए केवाईसी करवाना अनिवार्य होता है। एजुकेशन लोन पर ब्याज 11-14 फीसदी के बीच होता है। एजुकेशन लोन फ्लोटिंग रेट पर मिलता है। इसके लिए जरूरी दस्तावेजों की बात करें तो एजुकेशन लोन के लिए आइडेंटिफिकेशन प्रूफ, सिग्नेचर प्रूफ और एड्रेस प्रूफ की जरूरत होती है।