Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनीः बिन कैश, जियो बेफिक्र

प्रकाशित Sat, 15, 2017 पर 14:25  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कैश की किल्लत ने सभी के नाक में दम कर रखा है। एटीएम में कैश नही है। इक्का दुक्का एटीएम जहां, पैसे मिल भी रहे हैं, वहीं लोगों की लंभी लाइनें हैं। नोटबंदी के बाद एटीएम में फिर से पैसे आ जाने के बाद, लोगों ने डिजिटल पर अपना रूझान कम क्या किया और बैंकों ने एटीएम में कैश रखना ही बंद कर दिया। लेकिन ये तकलीफ कितनी लंबी चलेगी, क्या इस्से बचने काकोई उपाय हैं? योर मनी आपको कैश पर से कैसे अपनी निर्भरता कम करें, ये बताएग, 10 नायाब टिप्स के जरिए और हमारा साथ देंगे रूंगटा सिक्योरिटीज के हर्षवर्धन रूंगटा। 


1. नेट बैंकिंग
इसके जरिए पूरे देश में कहीं भी लेनदेन कर सकते हैं। नेट बैंकिंग आईडी और पासवर्ड के जरिए लेनदेन किया जाता है। इसके तहत सभी तरह के बिलों का भुगतान मुमकिन है और मोबाइल, वाई-फाई रीचार्ज कर सकते हैं। वहीं अकाउंट बैलेंस, स्टेटमेंट देख सकते हैं। इतना ही नहीं लोन, निवेश, इंश्योरेंस ले सकते हैं। साथ ही आईएमपीएस, एनईएफटी, आरटीजीएस लेनदेन कर सकते हैं।


2. क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड के जरिए बिना कैश लेनदेन मुमकिन है। क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल पर रिवार्ड प्वाइंट भी मिलते हैं। तय समय पर भुगतान करने पर कोई चार्ज नहीं लगता। कुछ जगहों पर क्रेडिट कार्ड लेनदेन पर चार्ज लग सकता है।


3. डेबिट कार्ड
वहीं डेबिट कार्ड से भी बिना कैश के लेनदेन मुमकिन है। इससे एटीएम से नकदी निकाल सकते हैं।
 
4. इंडिया क्यूआर कोड
भारत सरकार इंडिया क्यूआर कोड  लॉन्च करेगी औऱ क्रिप्टिक मैट्रिक्स बारकोड के जरिए लेनदेन भी किया जा सकता है। वीजा, मास्टरकार्ड, रुपए,यूपीआई, बैंक सभी में इस्तेमाल कर सकते हैं। बिना निजी जानकारी दिए लेनदेन होगा।


5. डिजिटल वॉलेट
ई-वॉलेट मोबाइल ऐप होते है। इससे किसी भी ऐप स्टोर से ई-वॉलेट डाउनलोड कर सकते हैं। बटुए की जगह ई-वॉलेट में पैसा रख सकते हैं। बैंक से ई-वॉलेट में पैसे ट्रांसफर करना होगा और ई-वॉलेट से पूरे देश में लेनदेन कर सकते हैं।


6. यूपीआई
 यूपीआई के तहत आधार, मोबाइल नंबर जैसे वर्चुअल एड्रेस के जरिए लेनदेन होता है। इसके द्वारा एक बैंक से दूसरे बैंक में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से बैंक ऐप डाउनलोड करना होगा और वर्चुअल एड्रेस बनाकर उसे बैंक अकाउंट से लिंक करना होगा। वर्चुअल एड्रेस और पिन के जरिए लेनदेन होगा।


7. ई-कूपन
ई-कॉमर्स कंपनियों के ई-कूपन से लेनदेन किया जा सकता है। ई-कूपन से खरीदी पर डिस्काउंट मिलता है। हालांकि इसके लिए ई-कोड जरूरी  होता है।


8. फिजीकल कूपन
पेपर कूपन से भी बिना कैश के लेनदन संभव है। कई कंपनियां अपने कर्मचारियों को कूपन देती हैं। लेकिन कूपन का इस्तेमाल तय समय सीमा में करना होता है।


9. आधार पेमेंट सिस्टम
आगे आप आधार के जरिए भी लेनदेन कर पाएंगे और इसके लिए आधार को बैंक अकाउंट से जोड़ना होगा। लेकिन फ्रिंगर प्रिंट के जरिए लेनदेन होगा।


10. मेडिकल हेल्थ कार्ड
हेल्थ सर्विसेज के लिए खास डिस्काउंट कार्ड बनाएं और ओपीडी, हेल्थ चेक अप के लिए कार्ड इस्तेमाल कर सकते हैं।


11. गिफ्ट, फॉरेक्स कार्ड
गिफ्ट, फॉरेक्स कार्ड से भी कैशलेस लेनदेन होता है। बैंक प्रीपेड कार्ड जारी करते हैं और हालांकि गिफ्ट, फॉरेक्स कार्ड से तय सीमा तक लेनदेन हो सकता है। इन कार्ड्स में फिर पैसा जमा कर सकते हैं।